blogid : 12172 postid : 718976

मंज़िल मिलेगी अवश्य .

Posted On: 18 Mar, 2014 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

788 Posts

2130 Comments

प्रतीक्षा

धैर्य

विश्वास

मंज़िल मिलेगी अवश्य !

भगवान

के कर्म

मनुष्य की भलाई

हर काम

हर बात

का समय निश्चित

फिर कर्म की

पुण्य की

क्या महत्ता ?

जीवन की

दशा

दिशा

भाग्य पर निर्भर,

भाग्य

प्रारब्ध का फल !

इस जन्म के कर्म

अगले जन्म का

भाग्य !

मोक्ष

उस आत्मा को

जो

पाप-पुण्य से परे !

मोक्ष की आकांक्षा

की

गयी

आत्मा फिर

घिरी

पाप-पुण्य के जाल में ,

फिर

चाहत से

कुछ नहीं

अनचाहा मन

रहे नहीं ,

रहे मात्र

प्रतीक्षा

धैर्य

विश्वास

मंज़िल मिलेगी अवश्य .

……………………..

शालिनी कौशिक

[कौशल ]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग