blogid : 12172 postid : 783418

मुल्क से बढ़कर न खुद को समझें हम,

Posted On: 22 Sep, 2014 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

788 Posts

2130 Comments

Image result for india-pakistan friendship images

”मुख्तलिफ ख्यालात भले रखते हों ,मुल्क से बढ़कर न खुद को समझें हम,
बेहतरी हो जिसमे अवाम की अपनी ,ऐसे क़दमों को बेहतर समझें हम.
……………………………………………………………………………………………
है ये चाहत तरक्की की राहें आप और हम मिलके पार करें ,
जो सुकूँ साथ मिलके चलने में इस हकीक़त को ज़रा समझें हम .
……………………………………………………………………..
कभी हम एक साथ रहते थे ,रहते हैं आज जुदा थोड़े से ,
अपनी आपस की गलतफहमी को थोड़ी जज़्बाती भूल समझें हम .
……………………………………………………………………………….
देखकर आंगन में खड़ी दीवारें आयेंगें तोड़ने हमें दुश्मन ,
ऐसे दुश्मन की गहरी चालों को अपने हक में कभी न समझें हम .
…………………………………………………………………………………….
न कभी अपने हैं न अपने कभी हो सकते ,
पडोसी मुल्कों की फितरत को खुलके समझें हम .
………………………………………………………………………………….
कहे ये ”शालिनी” मिल बैठ मसले सुलझा लें ,
अपने अपनों की मोहब्बत को अगर समझें हम .
……………………………………………………………..
शालिनी कौशिक
[ कौशल ]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग