blogid : 12172 postid : 1329964

मेरी माँ

Posted On: 13 May, 2017 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

790 Posts

2130 Comments

वो चेहरा जो

शक्ति था मेरी ,

वो आवाज़ जो

थी भरती ऊर्जा मुझमें ,

वो ऊँगली जो

बढ़ी थी थाम आगे मैं ,

वो कदम जो

साथ रहते थे हरदम,

वो आँखें जो

दिखाती रोशनी मुझको ,

वो चेहरा

ख़ुशी में मेरी हँसता था ,

वो चेहरा

दुखों में मेरे रोता था ,

वो आवाज़

सही बातें ही बतलाती ,

वो आवाज़

गलत करने पर धमकाती ,

वो ऊँगली

बढाती कर्तव्य-पथ पर ,

वो ऊँगली

भटकने से थी बचाती ,

वो कदम

निष्कंटक राह बनाते ,

वो कदम

साथ मेरे बढ़ते जाते ,

वो आँखें

सदा थी नेह बरसाती ,

वो आँखें

सदा हित ही मेरा चाहती ,

मेरे जीवन के हर पहलू

संवारें जिसने बढ़ चढ़कर ,

चुनौती झेलने का गुर

सिखाया उससे खुद लड़कर ,

संभलना जीवन में हरदम

उन्होंने मुझको सिखलाया ,

सभी के काम तुम आना

मदद कर खुद था दिखलाया ,

वो मेरे सुख थे जो सारे

सभी से नाता गया है छूट ,

वो मेरी बगिया की माली

जननी गयी हैं मुझसे रूठ ,

गुणों की खान माँ को मैं

भला कैसे दूं श्रद्धांजली ,

ह्रदय की वेदना में बंध

कलम आगे न अब चली .

शालिनी कौशिक
[कौशल ]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग