blogid : 12172 postid : 778832

मेरे लहू में है ,

Posted On: 31 Aug, 2014 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

788 Posts

2130 Comments

कहने की नहीं हसरत ,मेरे लहू में है ,
सहने की नहीं हिम्मत ,मेरे लहू में है ,
खंजर लिए खड़ा है ,मेरा ही भाई मुझ पर ,
जीने की नहीं उल्फत ,मेरे लहू में है .
………………………………………………………………………..
खाते थे रोटी संग-संग ,फाके भी संग किये थे ,
मुश्किल की हर घडी से ,हम साथ ही लड़े थे ,
अब वक़्त दूसरा है ,मक़सूम दिल हुआ है ,
मिलने की नहीं उल्फत ,मेरे लहू में है .
………………………………………………………..
सौंपी थी मैंने जिसके ,हाथों में रहनुमाई ,
अब आया वही बढ़कर ,है करने को तबाही ,
मुस्कान की जगह अब ,मुर्दादिली है छाई ,
हमले की न महारत ,मेरे लहू में है ,
………………………………………………..
वो पास खड़े होकर ,यूँ मारते हैं पत्थर ,
सिर पर नहीं ये चोटें ,आके लगे हैं दिल पर ,
इंसानियत के टुकड़े, वे बढ़के कर रहे हैं ,
झुकने की न मुरौवत ,मेरे लहू में है ,
……………………………………………………
बर्बाद कर रहे ये ,सदियों का भाईचारा ,
इनके लिए है केवल ,पैगाम ये हमारा ,
मिल्लत के दुश्मनों को , ”शालिनी ”क़त्ल कर दे ,
क़ुरबानी की ही चाहत ,मेरे लहू में है ,
………………………………………………………….
शालिनी कौशिक
[कौशल ]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग