blogid : 12172 postid : 749492

ये जिंदा थे ,जिंदा हैं और जिंदा रहेंगे .

Posted On: 3 Jun, 2014 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

788 Posts

2130 Comments

चले आज वे महज़ देह छोड़कर ,

नज़र सामने न कभी आयेंगे .

अगर देखें शीश उठाकर सभी ,

गगन में खड़े वे चमक जायेंगे .

शरीरों का साथ भी क्या साथ है ?

है चलती ही रहती मिलन व् जुदाई .

जो मिलते हैं अपनी आत्मा से हमें

न मध्य में आती किसी से विदाई .


ये जन -जन के प्यारे अज़र  हैं अमर हैं

हमारे ख्वाबों में रोज़ आया करेंगे .

भले भूल जाएँ हमको हमारे ही अपने

ये सबके दिलों पर छाये रहेंगे .

जो पैदा हुए हैं सभी वे मरेंगे ,

जो आये यहाँ पर सभी चल पड़ेंगे .

है इनके काम का ये जादू सभी पर

ये जिंदा थे ,जिंदा हैं और जिंदा रहेंगे .


श्री गोपीनाथ  मुंडे को भावपूर्ण श्रृद्धांजलि


शालिनी  कौशिक

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग