blogid : 12172 postid : 1258011

शहीदों के प्रति संवेदना का अभाव

Posted On: 19 Sep, 2016 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

788 Posts

2130 Comments

बचपन में माखनलाल चतुर्वेदी कृत पुष्प की अभिलाषा पढी, जिसमें पुष्प कहता है – “चाह नहीं सुरबाला के गहनों में गूंथा जाऊं, चाह नहीं प्रेमी माला में विंध नित प्यारी को ललचाऊं, चाह नहीं सम्राटों के शव पर हे हरि डाला जाऊं, चाह नहीं देवों के सिर पर चढूं, भाग्य पर इठलाऊं, मुझे तोड़ लेना वनमाली, उस पथ पर देना फेंक, मातृभूमि पर शीश चढाने जिस पथ जायें वीर अनेक.” पर लगता है कि वर्तमान में पुष्प को अपनी इस अभिलाषा में परिवर्तन करना होगा क्योंकि जिस वक्त माखनलाल जी ने हम सबको पुष्प की इस अभिलाषा से रूबरू कराया था तब देश में देशभक्ति की भावनाएं सर्वोपरि थी, राजनीति उससे नीचा स्थान रखती थी किन्तु आज राजनीति सर्वोपरि है. देश के 17 सैनिक शहीद हो गए किन्तु उनके लिए शोक तक करने को राजनीति की तराजू में तोला जा रहा है. चन्द वोट मांगने आने वाले अभयागतों के स्वागत के लिए देश के सैनिकों की शहादत को दरकिनार किया गया और यह कहा गया कि यहां राजनीति मत करिये, अब एेसे में तो यही लगता है कि पुष्प को अपनी अभिलाषा ही परिवर्तित कर यह करनी होगी अर्थात उसे यह कहना होगा – “मुझे तोड़ लेना वनमाली, उस पथ पर देना फेंक, वोट मांगने स्वार्थ हित लिए, जिस पथ चलते नेता अनेक.” शालिनी कौशिक

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग