blogid : 12172 postid : 734416

..... समझ न पायेंगें .

Posted On: 19 Apr, 2014 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

789 Posts

2130 Comments

ज़ुदा-ज़ुदा से हुए फिर रहे थे आज तलक

मेहरबाँ हो गए कैसे समझ न पायेंगें ,

भरोसा करके यूँ बैठे हमारी सूरत का

ज़माने में कभी भी हम समझ न पायेंगें .

………………………………………………….

हमारे चेहरे से नफरत तुम्हें थी आज तलक

करीब क्यूँ हुए इतने समझ न पायेंगें ,

हमारे बोल लबों पर सजाये फिरते हो

हुए हो हम पे नरम क्यूँ  समझ न पायेंगें .

……………………………………………….

मिली हमें है जो मंज़िल तुम्हारी चाहत थी

हो तब भी ऐसे में खुश तुम समझ न पायेंगें .

सहारे के सभी ज़रिये तुम्हारे छीने हैं

बने क्यूँ फिर रहे मेरे समझ न पायेंगें .

………………………………………….

फरेबी कहते थे मुझको दबी ज़ुबान से तुम

क्यूँ कर रहे वाह-वाह समझ न पाएंगे ,

खफा थे सामने भी तुम खफा थे पीछे भी

बदले क्यूँ ख़यालात समझ न पायेंगें .

……………………………………………….

सियासत ने यूँ बदले हैं तुम्हारे हाव-भाव सारे

क्यूँ काटें बदले फूलों में समझ न पायेंगें ,

खोले इस कदर परतें तुम्हारी खुल के ‘शालिनी ‘

इसे हम अब यहाँ कैसे समझ न पाएंगे .

…………………………………………….


शालिनी कौशिक

[कौशल ]

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग