blogid : 12172 postid : 724161

हुकुम देना है हक़ इनका ,हुकुम सुनना हमारा फ़र्ज़ ,

Posted On: 28 Mar, 2014 Others में

! मेरी अभिव्यक्ति !तू अगर चाहे झुकेगा आसमां भी सामने, दुनिया तेरे आगे झुककर सलाम करेगी . जो आज न पहचान सके तेरी काबिलियत कल उनकी पीढियां तक इस्तेकबाल करेंगी .

शालिनी कौशिक एडवोकेट

789 Posts

2130 Comments

बहाने खुद बनाते हैं,हमें खामोश रखते हैं ,

बहाना बन नहीं पाये ,अकड़कर बात करते हैं .

……………………………………………….

हुकुम देना है हक़ इनका ,हुकुम सुनना हमारा फ़र्ज़ ,

हुकुम मनवाने की ताकत ,पैर में साथ रखते हैं .

………………………………………………………

मेहरबानी होती इनकी .मिले दो रोटी खाने को ,

मगर बदले में औरत के ,लहू से पेट भरते हैं .

………………………………………………………

महज़ इज़ज़त है मर्दों की ,महज़ मर्दों में खुद्दारी ,

साँस तक औरत की अपने ,हाथ में बंद रखते हैं .

…………………………………………………

पूछकर पढ़ती-लिखती हैं ,पूछकर आती-जाती हैं ,

इधर ये मर्द बिन पूछे ,इन्हीं पर शासन करते हैं .

………………………………………………..

इशारा भी अगर कर दें ,कदम पीछे हटें उसके ,

खिलाफत खुलकर होने पर ,भी अपनी चाल चलते हैं .

………………………………………………………….

नहीं हम कर सकते हैं कुछ भी ,टूटकर कहती ”शालिनी ”

बनाकर  जज़बाती हमको ,ये हम पर राज़ करते हैं .


..

शालिनी कौशिक

[WOMAN ABOUT MAN]


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग