blogid : 7272 postid : 970

भक्त पुकारें, हे माता ! फिर से धरती पर आओ ना !

Posted On: 21 Oct, 2012 Others में

agnipuspJust another weblog

shashibhushan1959

84 Posts

3277 Comments

ma durga

तिमिर घना छाया भारत में, उजियारा फैलाओ ना !
भक्त पुकारें, हे माता ! फिर से धरती पर आओ ना !
.
हे जगजननी, पापविनाशिनी, शक्तिशालिनी हे माता !
लोकपालिनी, परमपूजिता, जन्मदायिनी जगत्राता !
.
जन्म-मृत्यु भवसागरतरिणी, भव से पार कराओ ना !
भक्त पुकारें, हे माता ! फिर से धरती पर आओ ना !
———–
शस्त्रधारिणी, सिंहवाहिनी, सदा तुम्हारी जय-जय हो !
दुष्टों का संहार करो माँ, तुम अजेय हो, दुर्जय हो !
.
महिषासुरमर्दिनी, विजयिनी, पुनः प्रकट हो जाओ ना !
भक्त पुकारें, हे माता ! फिर से धरती पर आओ ना !
————
फ़ैल गया साम्राज्य दानवों का फिर से भारत भू पर !
अट्टहास कर धुआँ विषैला, छोड़ रहे हैं जनता पर !
.
प्रजा त्रस्त है, निःसंबल है, आकर मुक्त कराओ ना !
भक्त पुकारें, हे माता ! फिर से धरती पर आओ ना !
————-
दुखी हिमालय, गंगा व्याकुल, दसो दिशायें काँप रही !
काली, विकराली, हे चंडी ! धरती तुम्हें गुहार रही !
.
शैल-शिखर से दिग-दिगन्त में, धर्म-ध्वजा फहराओ ना !
भक्त पुकारें, हे माता ! फिर से धरती पर आओ ना !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग