blogid : 26009 postid : 1367703

मैं खुद में जोड़ लेना चाहता हूँ

Posted On: 14 Nov, 2017 Others में

एहसासों की आवाज़ Just another Jagranjunction Blogs weblog

shayarmanish94

7 Posts

1 Comment

मैं खुद में जोड़ लेना चाहता हूँ
_____________________________

मैं खुद में जोड़ लेना चाहता हूँ
चाँद के कुछ बारीक अंश
जो बुझा सके मेरे बदन
पे जलते हुए लाल सूरज को
जो धीरे -धीरे मुझे राख कर रहा है

मैं खुद में जोड़ लेना चाहता हूँ
रंजनीगंधा और चमेली के
कुछ महकते हुए सफेद फूल
जो बेरंग ज़िन्दगी के जूड़े का
कर सकें सोलह श्रंगार

मैं खुद में जोड़ लेना चाहता हूँ
रात्रि के अंतिम पहर तक जगने वाले
रोशनी के पुंज जुगनुओं को
जो चीर सकें मेरी आँखों में जमे
हज़ारों वर्षों के कालेपन को

मैं खुद में जोड़ लेना चाहता हूँ
बेरहमी से नदी की आवाज़ दबाकर
पहाड़ से गिरते हुए झरने को
जो मेरे मन के एक खास हिस्से पे
लगातार चोट करने का हौसला रखता हो

मैं खुद में जोड़ लेना चाहता हूँ
अडिग अविचल हिम श्रंख्लाओं को
जो वक़्त के घाव को सीने पे लेकर भी
वज़्र स्वरूप में खड़ी हैं मेरे सामने
यही सिखा सकती हैं आँसू पीना मुझको .

मैं खुद में जोड़ लेना चाहता हूँ
तुमको मेरी जानां
तुम्हारे हाथों के कंगन से झांककर
देखना चाहता हूँ समन्दर में मिलते हुए सूरज को
तुम्हारी पायल और कान की बालियों से उपजे
स्वर में महसूस करना चाहता हूँ जीवन का संगीत
तुम्हारी मुस्कान से क्लिक करना चाहता हूँ
गुज़रते हुए हर एक सेकेंड को
तुम्हारे बदन के हरेक उतार चढ़ाव से गुज़रकर
ज़िन्दगी और खुशी के फासले को
शून्य करना चाहता हूँ मैं

मैं खुद में जोड़ लेना चाहता हूँ
वो सब कुछ जो हर पल टूटते हुए
मेरे मिट्टी के जिस्म को
वक़्त से पहले बिखर जाने से बचा सके.

मनीष “आशिक़ “.

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग