blogid : 12171 postid : 1168265

अपने हिस्से की हमें भी अब इमरती चाहिए !

Posted On: 24 Apr, 2016 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

कोख में ही क़त्ल होने से बची कलियाँ हैं हम ,
खिल गयी हैं इस जगत में झेलकर ज़ुल्मो सितम ,
मांगती अधिकार स्त्री भीख नहीं चाहिए ,
अपने हिस्से की हमें भी अब इमरती चाहिए !
……………………………………………………..
पितृसत्ता ने इशारों पर नचाई स्त्री ,
देह की ही कोठरी में बंद कर दी स्त्री ,
पितृसत्ता की नौटंकी बंद होनी चाहिए ,
अपने हिस्से की हमें भी अब इमरती चाहिए !
…………………………………………….
है पुरुष को ये अहम नीच स्त्री उच्च हम ,
साथ साथ फिर भला कैसे बढ़ा सकती कदम ,
‘आइटम’ कहते हुए लज्जा तो आनी चाहिए !
अपने हिस्से की हमें भी अब इमरती चाहिए !
………………………………………………………….
चौखटों को पार कर आई है जो भी स्त्री ,
पितृ सत्ता को नहीं भायी है ऐसी स्त्री ,
चीरहरण की भुजायें अब तो कटनी चाहिए !
अपने हिस्से की हमें भी अब इमरती चाहिए !
……………………………………………………….
तुम जलाकर देख लो सीता नहीं जलती कोई ,
न अहल्या न शकुंतला छल से ही डरती कोई ,
स्त्री को चैन की अब श्वांस मिलनी चाहिए !
अपने हिस्से की हमें भी अब इमरती चाहिए !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग