blogid : 12171 postid : 724662

''औरत से खेलता है मर्द ''

Posted On: 29 Mar, 2014 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

औरत से खेलता है मर्द उसे मान खिलौना ,

औरत भी जानदार है नहीं बेजान खिलौना !

…………………………………………………….

नज़र उठी तो देख लिया आसमान पूरा ,

झुकी नज़र जो जानती थी पलक भिगोना !

………………………………………………..

आज कलम थामकर लिखती हकीकत ,

उँगलियाँ जो जानती थी दूध बिलौना !

…………………………………………..

लब हिले तो दास्ताँ दर्द की बयान की ,

सिले हुए दबाते रहे ज़ख्म घिनौना   !

………………………………..

‘नूतन’ वे चल पड़ी पथरीली राह पर ,

उनको नहीं भाता है अब उड़न-खटोला !

शिखा कौशिक  ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग