blogid : 12171 postid : 694835

''..और आग बुझ गयी !''-लघु कथा [contest ]

Posted On: 27 Jan, 2014 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

”लखन चला गोली ….इस औरत के मज़हब वालों ने ही तेरा घर जला डाला …तेरे बापू ..तेरी माँ ….सबको जला डाला ….सोच क्या रहा है ….चला गोली …मार डाल ….!!” सूरज ने लखन का कन्धा झंझोरते हुए कहा . लखन होश में आते हुए बोला -” ना सूरज ना …मैं नहीं चलाऊंगा गोली …इनमे मुझे मेरी माँ दिखाई दे रही है …मैं नहीं कर सकता इनका क़त्ल …!!” लखन के ये कहते ही सूरज का खून खौल उठा और उसने लखन के हाथ से रिवाल्वर झपटते हुए कहा -” बकवास मत कर ….कायर …गद्दार …तू भी ज़िंदा नहीं बचेगा …तू ज़िंदा रहने के काबिल नहीं !!” ये कहते -कहते सूरज ने लखन को निशाना बनाते हुए गोली चला दी पर तभी लखन को अपने पीछे खींचते हुए उस औरत ने गोली के निशाने पर खुद को लाकर खड़ा कर दिया .गोली उस औरत का दिल चीरते हुए आर-पार निकल गयी और वो औरत चीख के साथ ज़मीन पर गिर पड़ी . लखन ने ज़मीन पर बैठते हुए उस औरत का सिर अपनी गोद में रखा और रोते हुए बोला -” माँ आपने ये क्या किया ?” उस औरत ने अंतिम सांस के साथ हिचकी लेते हुए कहा -”माँ अपने सामने अपने बेटे को क़त्ल होते कैसे देख लेती भला !” ये कहते कहते वो औरत हमेशा के लिए शांत हो गयी और शांत हो गयी सूरज के दिल में धधकती हुई साम्प्रदायिकता की आग !!

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग