blogid : 12171 postid : 798428

कविता मात्र श्रृंगार नहीं !

Posted On: 1 Nov, 2014 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

कोमल पुष्पों का हार नहीं ,
रसिक-नृप-दरबार नहीं ,
ये नूपुरों की झंकार नहीं ,
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !
…………………………………
कविता नहीं सीमित नख -शिख तक ,
नारी की चंचल -चितवन तक ,
षड-ऋतुओं के वर्णन तक ,
कामोद्दीपक भावों तक ,
प्रेमी-युगलों को हर्षाती ;
केवल मदमस्त फुहार नहीं !
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !
…………………………………….
कविता-शिव का पर्याय है ,
शिव में ब्रह्माण्ड समाये है ,
वही सत्य है वही सुन्दर है ,
आनंद का यही उपाय है ,
मानवता के आदर्शों का
स्थायी दृढ़ आधार यही !
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !
……………………………………..
वीरों में भर देती साहस ,
मातृ -भूमि हित मिट जाओ ,
मत करो पलायन डर कर तुम ,
भले रणभूमि में कट जाओ ,
वीरों के कर में है सजती ,
शत्रु-मर्दन तलवार यही !
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !
……………………………………….
करुणा से ह्रदय द्रवित करती ,
प्रफुल्लित उर को कर देती ,
कविता में हास-रुदन दोनों ,
जीवन में रंग यही भरती ,
कविता नहीं होती मधुशाला ,
पावन गंगा -सम धार यही !
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !

शिखा कौशिक ‘नूतन ‘

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग