blogid : 12171 postid : 819324

''काश न जाते बच्चे स्कूल !''

Posted On: 19 Dec, 2014 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

काश उस मनहूस दिन
सूरज निकलने से
कर देता मना !
…………………..
काश अब्बा न जगाते
स्कूल जाने के लिए
रोज़ की तरह !
……………………..
काश स्कूल के लिए
तैयार होते समय
टूट जाता जूते का फीता
और बन जाता
न जाने का एक बहाना !
……………………………..
काश अम्मी ही कह देती
क्या रोज़ रोज़ जरूरी है
स्कूल जाना !
…………………………….
काश स्कूल में घुसने से पहले
आतंकियों के
कट जाते हाथ !
………………………….
काश उस दिन
ख़ुदा देता
मासूमों का साथ !
……………………….
काश न जाते
बच्चे स्कूल
और
गोलियों की जगह
बंदूकों से निकलते फूल !
………………………….
कुछ न हो सका
न हो पायी
कोई दुआ क़ुबूल
…………………………
दरिंदगी की भेंट
चढ़ गए
नन्हे मुन्ने रसूल !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग