blogid : 12171 postid : 705350

कितना खोया कितना पाया आओ करें हिसाब !

Posted On: 18 Feb, 2014 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

जीवन का बहीखाता खोला काम करें ये खास ,
कितना खोया कितना पाया आओ करें हिसाब !
…………………………………………………….
कितने आंसू आँख से टपके गिनना जरा संभलकर ,
कितनी आहेँ कितनी चीखें निकली तड़प-तड़प कर ,
कितनी बार भरी घुट-घुट कर लम्बी-गहरी सांस !
कितना खोया कितना पाया आओ करें हिसाब !
……………………………………………………
कितना भीगे ममता मेह में कितना नेह लुटाया ,
कितना प्रेम किया अपनों से वापस कितना पाया ,
कितनी बार भरोसा टूटा कब-कब टूटी आस !
कितना खोया कितना पाया आओ करें हिसाब !
……………………………………………………………
कितनी बार खिले अधरों पर मुस्कानों के फूल ,
कितने स्वप्न सजे नयनों में सतरंगी सावन झूल ,
हुए प्रफुल्लित कितनी बारी कब-कब भये उदास !
कितना खोया कितना पाया आओ करें हिसाब !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग