blogid : 12171 postid : 875868

''कुदरती इन जलजलों से कांपती इंसानियत ''

Posted On: 26 Apr, 2015 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

Image result for earthquake images of nepal

हर तरफ मायूसियाँ ,चेहरों पर उदासियाँ ,
थी जहाँ पर महफ़िलें ;है वहां तन्हाईयाँ !
******************************************

कुदरती इन जलजलों से कांपती इंसानियत ,
उड़ गयी सबकी हंसी ;बस गम की हैं गहराइयाँ
****************************************************
क्यूँ हुआ ऐसा ;इसे क्या रोक हम न सकते थे ?
बस इसी उलझन में बीत जाती ज़िन्दगानियाँ !
***********************************************

है ये कैसी बेबसी अपने बिछड़ गए सभी
बुरा हो वक़्त ,साथ छोड़ जाती हैं परछाइयाँ !
********************************************

ज़लज़ले जो बन कहर छीन लेती ज़िन्दगी
ज़लज़ले को मौत कहने में नहीं बुराइयाँ !
********************************************

हे प्रभु कैसे कठोर बन गए तुम इस समय ?
क्या तुम्हे चिंता नहीं मिल जाएँगी रुसवाइयां !
**************************************

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग