blogid : 12171 postid : 834474

* घूंघट की दीवारों में !*

Posted On: 16 Jan, 2015 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

क्यों कैद किया औरत को ?
घूंघट की दीवारों में ,
घुटती है ; सिसकती है ,
घूंघट की दीवारों में !
………………………………..
कुछ कर के दिखाने की ;
उसकी भी तमन्ना थी ,
दम तोड़ रही हर चाहत ;
घूंघट की दीवारों में !
………………………………………………
मुरझाया सा दिल लेकर ;
दिन-रात भटकती है ,
हाय कितना अँधेरा है !
घूंघट की दीवारों में !
………………………………..
घूंघट जो उठाया तो ;
बदनाम न हो जाये ,
डर-डर के रोज़ मरती है ;
घूंघट की दीवारों में !
…………………………………..
क्या फूंकना औरत को ;
मरघट पे है ले जाकर ,
जल-जल के खाक होती है ;
घूंघट की दीवारों में !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग