blogid : 12171 postid : 1328589

जी उठे पुन:निर्भया!

Posted On: 5 May, 2017 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

मिले
न्याय
हर
निर्भया को,
फांसी चढे़
हर
अन्यायी कामी!

घाव भर जाये
हर क्षत – विक्षत
स्त्री योनि के
और
न रहे अधूरी
ये आस
“मैं जीना चाहती हूँ ”

जी उठे पुन :
प्रफुल्ल ह्रदय से
सम्मान के साथ
हर निर्भया!

शिखा कौशिक नूतन

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग