blogid : 12171 postid : 864711

'दिल तो दिल है '

Posted On: 26 Mar, 2015 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

Image result for free images of hearts and roses

भोला सा नाज़ुक सा दिल ये कितने सदमे झेलेगा ,
ग़म से भरकर फट जायेगा कितने सदमे झेलेगा !
…………………………………………………………………
फूल से दिल पर दर्द के पत्थर कैसे वो बच पायेगा ?
टुकड़े टुकड़े हो जायेगा जितने सदमे झेलेगा !
……………………………………………………
जब जब दिल ये आह भरेगा पलकें तब तब भीगेंगी ,
कब तक दिल बर्दाश्त करेगा कब तक खुद से खेलेगा !
……………………………………………………………..
किस्मत ने पैने खंजर से दिल पर सीधा वार किया ,
ज़ख्म है गहरा रूह तड़पती मुंह कैसे इससे फिरेगा !
………………………………………………………..
दिल तो दिल है ‘नूतन’ तुमको इतना भी मालूम नहीं ,
अपनों की खातिर हंसकर ये सारे सदमे झेलेगा !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग