blogid : 12171 postid : 1322370

'फेसबुकिया लड़कियां'-CONTEST

Posted On: 31 Mar, 2017 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

ये एक विडंबना ही है कि आज जहाँ अंतर्जाल को महिलाएं अपने सशक्तिकरण हेतु एक हथियार बनाने की ओर अग्रसर हैं वही कुछ नीच प्रवृति के लोग इसका दुरूपयोग कर ”महिला ” की गरिमा गिराने का कुत्सित प्रयास कर रहे हैं
बात सन 2010 की रही होगी .मैंने फेसबुक पर अकाउंट बनाया ही था . शुरू में जिसकी भी फ्रेंड रिक्वस्ट आती मैं स्वीकार कर लेती . एक महोदय ने चैट की शरुआत की .मुझे किसी पर्व की शुभकामनायें दी .मैंने प्रतिउत्तर में ‘THANKS AND SAME TO YOU BROTHER ‘ लिख दिया .इस पर उन महोदय ने पलट कर जो लिखा वो भारतीय पुरुष की कुंठित सोच को उजाकर करता है .जो अपनी बहन को तो किसी गैर मर्द से बात करने तक की इजाज़त तक नहीं देते और गैर व् अजनबी लड़की से केवल दोस्ती का रिश्ता कर अपनी गन्दी सोच का प्रमाण प्रस्तुत करते हैं .उसने लिखा -”HOW VILLIAGER ARE YOU ‘ ” क्या किसी से बंधुत्व का नाता रखना हमें गंवार बनाता है ? यदि ऐसी सोच है तो हाँ मैं तो पक्की गंवार हूँ ! मैंने ये लिख कर उन महोदय को फ्रेंड लिस्ट से हटा दिया था .
फेसबुक पर काम करने वाले पुरुष वर्ग से मैं यही कहना चाहूंगी कि सोशल साईट पर अकाउंट बनाने वाली लड़कियां खुली तिजोरी नहीं हैं .वे आधुनिक तकनीक का सदुपयोग करने के लिए यहाँ है न कि आपके मनोरंजन के लिए .
शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग