blogid : 12171 postid : 707742

''मृत्यु की अभिलाषा !''

Posted On: 23 Feb, 2014 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

टूटे जब स्वप्नों की माला आशा भये निराशा ,
तब रह जाती शेष केवल मृत्यु की अभिलाषा !
……………………………………………………
चिर-वियोग जब प्रियजनों का सहना पड़ता भारी ,
पल-पल पीड़ा शूल चुभाती निर्मम अत्याचारी ,
बहते अश्रु मुख पर लिखते जीवन की परिभाषा !
तब रह जाती शेष केवल मृत्यु की अभिलाषा !
………………………………………………………..
हर लेता जब रावण सीता पंचवटी में छल से ,
कमल-नयन तब भर आते व्यथित हो अश्रु-जल से ,
धीर-वीर-गम्भीर राम भी झेलें गहन हताशा !
तब रह जाती शेष केवल मृत्यु की अभिलाषा !
……………………………………………………
भेद न पाएं लक्ष्य जब-जब लज्जित होते हैं हम ,
शत्रु छोड़ें व्यंग्य-वाण घायल होता अंतर्मन ,
अपमानों के जोखिम वाला जीवन एक तमाशा !
तब रह जाती शेष केवल मृत्यु की अभिलाषा !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग