blogid : 12171 postid : 1317819

"मेरा बिस्तर बंधा हुआ है "

Posted On: 12 Mar, 2017 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

भावुकता
कुछ अंश विवशता
वापस लौटा लाई है,
पुनरागमन देख ये मेरा
चिंता तुम्हे सताई है ,
लेकिन तुम आश्वस्त रहो
कोई गोरखधंधा नहीं हुआ है ,
मेरा बिस्तर बँधा हुआ है !
………………………………..
कुछ क्षण रूककर
देख-परखकर
छूटे काम करूंगी पूरे ,
मेरे विचलित उर के कारण
जो रह गए थे सभी अधूरे ,
लेकिन तुम आश्वस्त रहो
कोई गोरखधंधा नहीं हुआ है ,
मेरा बिस्तर बँधा हुआ है !
………………………………..
स्थिर नहीं है पुनरागमन
निश्चित है मेरा जाना ,
उर में घाव लगे हैं गहरे
कठिन बहुत उनका भर पाना ,
लेकिन तुम आश्वस्त रहो
कोई गोरखधंधा नहीं हुआ है ,
मेरा बिस्तर बँधा हुआ है !
………………………………..
रूकती नहीं गति इस जग की
कोई आये ; कोई जाये ,
नित नूतन सृष्टि है सजती
फिर क्यों पुष्प कोई इठलाये
लेकिन तुम आश्वस्त रहो
कोई गोरखधंधा नहीं हुआ है ,
मेरा बिस्तर बँधा हुआ है !

शिखा कौशिक ‘नूतन ‘

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग