blogid : 12171 postid : 1119103

'वो' भयभीत नहीं होने देता '

Posted On: 15 Dec, 2015 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

Image result for free victory images

बसा हुआ हर उर में है ‘वो’ ;
भयभीत नहीं होने देता ,
विषम घड़ी में भी शत्रु की
जीत नहीं होने देता !
………………………………..
रुको नहीं बढ़ते जाओ ;
चीर अंधेरों के चीरो ,
बलिदानों की झड़ी लगा दो ,
किंचित नहीं झुको वीरों ,
वीर-प्रसूता के मस्तक को
लज्जित न होने देता !
विषम घड़ी में भी शत्रु की
जीत नहीं होने देता !
………………………………..
घोर निराशा जब बंधन में ;
बांध रही हो जीवन को ,
हीन-भावना जकड रही हो
मानव के अंतर्मन को ,
आशाओं के दीप जगा
तम विजित नहीं होने देता !
विषम घड़ी में भी शत्रु की
जीत नहीं होने देता !
………………………………..
मृत्यु से भी आँख मिला लो ;
भर देता हम में साहस ,
मिटटी को भी स्वर्ण बना दे ;
ऐसा वो निर्मल पारस ,
मर्यादित को धर्म-मार्ग से
विचलित न होने देता !
विषम घड़ी में भी शत्रु की
जीत नहीं होने देता !

डॉ. शिखा कौशिक

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग