blogid : 12171 postid : 680764

शहीदों के कफ़न तक बेच खाते हैं कई बुज़दिल![CONTEST ]

Posted On: 3 Jan, 2014 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

शहादत की यहाँ कीमत लगाते हैं कई बुज़दिल ,
ताला नोट का मुंह पर लगाते हैं कई बुज़दिल !
…………………………………………..
सियासत के लिए इमदाद देते हैं करोड़ों की ,
यहाँ आंसू मगरमच्छी बहाते हैं कई  बुज़दिल!
…………………………………………………….
ये एक दिन में भुला देते शहीदों की शहादत को ,
दिखावे को बड़े मेले लगाते हैं कई बुज़दिल  !
………………………………………
शहादत को बना मुद्दा सियासत की सिके रोटी ,
शहीदों के कफ़न तक बेच खाते हैं कई बुज़दिल !
…………………………………………………….
बुझा दीपक है जिस घर का वतन के वास्ते ‘नूतन’
नहीं सिर उसकी चौखट पर झुकाते हैं कई  बुज़दिल !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग