blogid : 12171 postid : 676027

साकेत कहाँ साकेत रहा जिसमे स्नेही तात नहीं !

Posted On: 24 Dec, 2013 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

हे अनुज मेरे ! मेरे लक्ष्मण ! एक व्यथा ह्रदय को साल रही ,
साकेत कहाँ साकेत रहा जिसमे स्नेही तात नहीं !
……………………………………………………….
जब चला था वचन निभाने मैं कितने थे व्यथित पितु मेरे !
एक पल सोचा था रुक जाऊँ पर धर्म का संकट था घेरे !
रघुकुल की रीत निभाना ही उस वक्त लगा था मुझे सही !
साकेत कहाँ साकेत रहा जिसमे स्नेही तात नहीं !
………………………………………………………..
माँ ने बतलाया था मुझको पितु करते कितना स्नेह हमें !
ले गोद हमें हर्षित होते जब हम सब थे नन्हे-मुन्ने !
अब तात के दर्शन न होंगे उर फट जाता है सोच यही !
साकेत कहाँ साकेत रहा जिसमे स्नेही तात नहीं !
……………………………………………………
स्मरण तुम्हें होगा लक्ष्मण ऋषि विश्वामित्र पधारे थे !
जाने को दे दी थी आज्ञा पर चिंतित तात हमारे थे !
संकट से घिरे देख हमको नयनों से अश्रुधार बही !
साकेत कहाँ साकेत रहा जिसमे स्नेही तात नहीं !
……………………………………………………..
कर्तव्य ज्येष्ठ संतान का है दे अग्नि पितृ-चिता को वो !
पर राम अभागा कितना है पितृ-ऋण से उऋण न जो !
हूक सी उठती है उर में जाती न मुझसे हाय सही !!
साकेत कहाँ साकेत रहा जिसमे स्नेही तात नहीं !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग