blogid : 12171 postid : 721404

सियासत को अगर समझो जुबानें बंद रहने दो !

Posted On: 23 Mar, 2014 Politics में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

सियासत को अगर समझो जुबानें बंद रहने दो !

खिलाफत मत करो समझो जुबानें बंद रहने दो !

……………………………………………………..

बड़ी मक्कारियाँ कर के हवा अपनी बनाई है ,

बनो नादान मत यारों जुबानें बंद रहने दो !

………………………………………………..

मिला जो तख़्त तुमको भी नवाजेंगे ईनामों से ,

हमारी चाल चलने दो जुबानें बंद रहने दो

…………………………………………..

खफा होना है हो जाओ झुकेंगे हम नहीं हरगिज़ ,

इशारों को समझ जाओ जुबानें बंद रहने दो !

…………………………………………………..

हमेशा काटते शागिर्द ही उस्ताद की गर्दन ,

ये ‘नूतन’ सबको बतलाओ जुबानें बंद रहनें दो !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग