blogid : 12171 postid : 1084799

''हाँ ! कलम में है वो ताकत !''

Posted On: 27 Oct, 2015 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

है नहीं शमशीर कोई सिर कलम का काट दे !
हाँ ! कलम में है वो ताकत झूठ का सिर काट दे !
……………………………………………………….
ज़ालिमों का पर्दाफाश कर रही है जो कलम ,
हौसलों के हाथ उसके कौन कैसे काट दे !
………………………………………………….
सच की पहरेदार बन परवाज़ ऊँची भर रही ,
है अगर हिम्मत तो कातिल इसके पंख काट दे !
……………………………………………
झुक नहीं सकती कभी ज़ुल्मों-सितम के सामने ,
आग की लपटों को नामुमकिन है कोई काट दे !
……………………………………………………..
बेजुबान, अंधी , बहरी मत रहो ‘नूतन’ कलम ,
दुश्मनों के जिस्म आज टुकड़े-टुकड़े काट दे !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग