blogid : 12171 postid : 1120962

''हैं बहुत गहरे मेरे,ज़ख्म न भर पायेंगें !''

Posted On: 8 Dec, 2015 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

मरहम तसल्ली के लगा लो ,राहत नहीं कर पायेंगें ,
हैं बहुत गहरे मेरे , ज़ख्म न भर पायेंगें !
………………………………………………………
टूटा है टुकड़े-टुकड़े दिल ,कैसे ये जुड़ जायेगा ,
जोड़ पाने की जुगत में और चोट खायेगा ,
दर्द के धागों से कसकर लब मेरे सिल जायेंगें !
हैं बहुत गहरे मेरे , ज़ख्म न भर पायेंगें !
…………………………………………………
है मुकद्दर की खता जो मुझको इतने ग़म मिले ,
रुक नहीं पाये कभी आंसुओं के सिलसिले ,
है नहीं उम्मीद बाकी अच्छे दिन भी आयेंगें !
हैं बहुत गहरे मेरे , ज़ख्म न भर पायेंगें !
………………………………………………..
अब तड़पकर रूह मेरी कहती है अक्सर बस यही ,
और क्या-क्या देखने को तू यहाँ ज़िंदा रही ,
मौत के आगोश में ”नूतन” सुकूं ले पायेंगें !
हैं बहुत गहरे मेरे , ज़ख्म न भर पायेंगें !

शिखा कौशिक ”नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग