blogid : 12171 postid : 741495

ह्रदय की ज्योति

Posted On: 16 May, 2014 Others में

! अब लिखो बिना डरे !शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

DR. SHIKHA KAUSHIK

580 Posts

1343 Comments

कायरता की बात  मत  मुझसे किया करो ,

जब भी तुम भयभीत हो मुझसे मिला करो !

मैं तुम्हारे अंत:करण से सब भय मिटा दूंगा ,

मैं तुम्हारे ह्रदय में साहस-दीप जगा दूंगा !

मैं कौन हूँ ? मैं क्या हूँ ?मुझसे मत पूछो ,

मैं हूँ वही जिसके तुम प्रतिपल साथ रहते हो ,

कभी खुद ,कभी ईश्वर ,कभी रब -ईसा कहते हो !

सबके ह्रदय के भीतर  जो रोशनी हैं रहती  ,

पाप-कर्म के कारण मंद-मंद हैं रहती !

मैं वही हूँ ,तुम्हारी ही एक दिव्य-छवि हूँ !

और सुनो तुम्हारे पाप ही भय के कारण हैं ,

तुम छिपा सकते हो दुनिया से

पर मैं तो तुम्हारे ह्रदय की ज्योति हूँ

सब स्वयं  ही जान लेती हूँ !

चलो उठकर अपने पापों से तौबा कर लो ,

फिर देखो तनिक भी कायरता और भय न होगा

तुम प्रज्ज्वलित  दीपक के समान होगे

और सर्वत्र  तुम्हारे लिए स्वर्ग की तरह सुन्दर होगा !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग