blogid : 17510 postid : 702080

और कोई बात नहीं!

Posted On: 11 Feb, 2014 Others में

मन-दर्पणलिखने इबारत इस मन-दर्पण की..लो उन्मुक्त हो चली अभिव्यक्ति मेरे अंतर्मन की ..

शिल्पा भारतीय "अभिव्यक्ति"

19 Posts

129 Comments

हूँ नहीं मै मगरूर
गर हूँ मै तुझसे दूर,
तो कहीं खुद से ही हूँ मजबूर!
और कोई बात नहीं!

हाड़ मांस का ये पुतला,
उपर से सख्त जो इतना दिखता है,
भीतर है इसके एक नाज़ुक सा दिल भी,
जो तेरे नाम से ही धड़कता है,
ऐसा नहीं कि इसमें कोई ज़ज्बात नहीं,
हूँ कहीं खुद से ही मजबूर!
और कोई बात नहीं|

वो बाते, मुलाकाते
वो ख्वाबों ख्यालों की सौगाते
वो तेरी खुशबू में महकी शामे
वो तेरी चाहत की चांदनी से रोशन रातें
भूली नहीं सब है याद मुझे
वक्त की गर्दिश में गुम हुए है
जो सब ये लम्हात कही
हूँ कही खुद से ही मजबूर!
और कोई बात नहीं|

हमदम मेरे !
माना अपनी उम्मीदों के सूरज पर,
अब स्याह रात का साया है|
पर अँधेरा हो कितना ही घना
सूरज की एक किरण के आगे
कब टिक पाया है!
जिसकी सहर ना हो,
ऐसी तो कोई रात नहीं,

हूँ कही खुद से ही मजबूर!
और कोई बात नहीं|

शिल्पा भारतीय “अभिव्यक्ति”अंतर्मन की (१२-०६-२०१३)

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग