blogid : 4118 postid : 123

अनमोल धरोहर अवश्य हो जायेगें.............................

Posted On: 18 Jun, 2012 Others में

vatsalyaJust another weblog

shiromanisampoorna

123 Posts

98 Comments

DSC_1760वह कितना महान क्षण था जब शुरू किया
मैंने तुम्हे अपने भीतर महसूसना
वही जीवन का चरम था
मन में कुछ विस्वास जागा
श्रद्धा का आभास जागा
भावना निर्मल बनी तो कर दिया मन ने समर्पण
हाथों से प्रसून अर्पण,हो उठी साकार मेरी साधना
मृदुल चितवन की तूलिका को,भावना की स्याही में डुबोकर
ह्रदय- पृष्ठ पर जो हस्ताक्षर तुमने अंकित किये थे
स्मृतियों की मञ्जूषा में आज भी वे संचित है
पल हर पल पुराने होते ये दिन बीते दृश्यों के साथ,
ऐतिहासिक शिल्पकलाओं दस्तावेजों की तरह अमूल्य होते चले जायेगें
तुम्हारे साथ गुज़ारे थोड़े से सुन्दर,सुख भरे दिन शायद कभी लौटकर नहीं आयेगें
परन्तु मेरे लिए इस जग की “अनमोल धरोहर अवश्य हो जायेगें”

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग