blogid : 4118 postid : 676308

वात्सल्यमूर्ति दीदी माँ जी के अवतरण की स्वर्ण जयंती

Posted On: 25 Dec, 2013 Others में

vatsalyaJust another weblog

shiromanisampoorna

123 Posts

98 Comments

मनुष्य उसे जीवन देने वाली प्रकृति के प्रति भले ही कितना भी निष्ठुर हो जाये लेकिन ईश्वरीय शक्ति हमेशा अपनी संतानों की चिंता करती है / हम बीते युगों पर यदि दृष्टि डालें तो ज्ञात होगा कि प्रत्येक युग में मनुष्य जब जब अज्ञान के अँधेरे में भटका है तब तब ऋषियों , मुनियों और महापुरुषों के रूप में दैवीय शक्तियों ने धरती पर अवतरित होकर मनुष्यता को उससे मुक्त कर ज्ञान का आलोक चारों ओर फैलाया / वात्सल्यमूर्ति पूज्या दीदी माँ साध्वी ऋतम्भरा जी भारत की उसी प्राचीन परम्परा का एक स्वर्णिम अध्याय है जिसका हर एक पृष्ठ मानव सेवा का भावपूर्ण आलेख है / उनके पावन मार्गदर्शन में संचालित किसी भी सेवा प्रकल्प पर नज़र डालिये , आप पायेगें कि वो अपने आप में एक विशेषता लिए हुए है / उन्होंने जो सोचा वही कहा और जो कह दिया उस पर शत – प्रतिशत अमल किया / माँ , पराम्बा भगवती ने उन्हें उस शक्ति से परिपूर्ण किया जो केवल महापुरुषों के हिस्से में ही आती है / उन्हें वह करुणा और वात्सल्य प्रदान किया जो दीन-दुखियों को न केवल गले लगा सके बल्कि उनका उत्थान भी कर सके / अपने जीवन के केवल कुछ वर्षों में ही कोई इतिहास रच दे , ऐसा बहुत कम लोग कर पाते है / अपना निजत्व छोड़कर औरों के लिए व्यापक रूप से सद्कार्यों को विस्तार देने की घटना बहुत कम लोगों के जीवन में घटती है /
ऐसी ही वात्सल्यमूर्ति है दीदी माँ जी , जिनके जीवन में बहुत गहराई तक वात्सल्य और करुणा , ममता घटित हुई है / जाति , मत , पंथ और सम्प्रदायों से बहुत ऊपर उठकर उन्होंने पीड़ित मानवता को अपने स्नेह आलिंगन में बांधा है / उनके भौतिक जीवन के स्वर्ण जयंती वर्ष पर आइये हम सब मिलकर उनका अभिनन्दन करें …………..उनका अनुकरण करें …………..भले ही अपने अपने क्षेत्रों में , अपने अपने स्तर पर लेकिन कुछ ना कुछ ऐसा जरुर करें जो अज्ञान और दुःख में डूबी मनुष्यता को जीने की राह दिखा सके / दीदी माँ केवल एक व्यक्तित्व नहीं बल्कि एक विचारधारा है / आइये हम भी उनके विचारों से नई पीढ़ी को परिपुट करें , ताकि वात्सल्य की यह गंग धार बहती रहे …………सदियों तक DSC_1760

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग