blogid : 7725 postid : 647051

कब..??

Posted On: 6 Jan, 2014 Others में

Sincerely yours..Aaiye Haath Uthayein Ham Bhi.............

sinsera

67 Posts

2105 Comments

हौसला है के ज़माने को आग लगाएंगे ,
कहाँ से लाएंगे शोले बुझे दिलों में अब ,


ज़मीर मर गया है ,जल के बुझ चुका है अब,
मुर्दा एहसास कफ़न के बिना ही दफ़न हैं अब,


वो रो रहे हैं सीना पीट पीट कर के अभी ,
जो कह रहे थे जियो या मरो हमें क्या अब ,


हाथ जिनके न उठे थे कभी दुआ के लिए,
बद्दुआ में भी उनकी न हो अब असर या रब,


उनके बुत, उनके खुदा उनकी खुदगर्ज़ी के सुपुर्द,
उनके जीवन में कहाँ इंसान की कदर है अब ,


किसकी गर्दन पे रखा पाँव है उन्हें क्या फिकर,
साँस लेता है कोई मर गया उन्हें क्या अब,


उन्हें तो गरज़ है अपने लिए उजालों की ,
किसी की ज़िन्दगी जलती हो चाहे बेमतलब ,


जिन्हों ने देखना चाहा न कभी सूरज को,
उनकी पलकों को चांदनी जला रही है अब,


और जो सर झुकाये जी रहे हैं मर मर के ,
उनकी मौतों को इंकलाब मिल सकेगा कब,


जो सह रहे हैं उनका सब्र मिटे, जब्र मिटे या न मिटे,
टूट जाएँ उठी तलवारें शायद ऐसे अब,


बन के आतिश खामोशियाँ कभी तो फूटेंगी,
कभी न कभी तो ये होगा मगर होगा कब,


वो वक़्त होगा समंदर भी हार जायेगा ,
वो आग बुझ न सकेगी जो यूँ लगेगी तब,


जो चुभ रहा है खलिश बन के गो के सच्चा है ,
वो लफ्ज़ आये ज़ुबां पर वो सुबह आयेगी कब…


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग