blogid : 12351 postid : 1245902

मेरी मातृभाषा हिंदी

Posted On: 17 Apr, 2019 Others में

Where have we lost the happiness?Just another weblog

surabhi

10 Posts

6 Comments

मृदुल अनमोल शब्दो की लड़ी जैसे हो रत्नों की
ह्रदय मनमोहिनी हिंदी ,ये मेरी मातृभाषा हिंदी

सरस सागर है भावों का , विचारो और सवालों का
जिसे प्रस्तुत सुगम करती ,ये मेरी मातृभाषा हिंदी

कहे रहीम उन्मुक्त दोहा ,कभी मीरा की है भक्ति
न जाने कितने कवियों की है आत्मभाषा हिंदी

लगे परिपूर्ण सी खुद में , बहे अद्भुत नदी सी ये
सुखद अनुराग की धारा ,सुगम अनुपाम है यह हिंदी

भरे उत्साह उत्सव सा , रहे उन्माद उद्गम सा
की जैसे सोंधी खुशबू हो , मेरी धरती की है हिंदी

देश प्रेम की प्रज्वल्लित ज्योत , कर दे हर जान को ओत प्रोत
पावन ,सावन की ये फुहार , करे अलंकार से ये श्रृंगार

करे दिशाहीन को ये प्रबल पढ़ ले कोई रामचरित मानस
भवसिंधु की नैया सी यह , है शक्ति युक्त और दे साहस

कर्तव्य पूर्ण करना हमे ,प्रयोग हिंदी व्यापक करें
प्रगति देश की निश्चित है जन जन जन को इससे करें

जय हिंदी
जय भारत

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग