blogid : 15986 postid : 1200180

ईद का अर्थ ख़ुशी अर्थात खुशियों का पर्व ?" जागरण जंगशन "

Posted On: 7 Jul, 2016 Others में

Vichar ManthanMere vicharon ka sangrah

Shobha

260 Posts

3111 Comments

ईरान प्रवास के दौरान ईद की सुबह थी मेरे पति के प्रिय पठान दोस्त डॉ हुनरगुल उनकी पत्नी सूफिया हमारे घर आये हम उन्हें देख कर हैरान थे | हुनर गुल हम सबको खुदा हाफिज कह कर अपने शहर पेशावर पाकिस्तान लौट गये थे वहाँ उनकी सरकारी नौकरी थी | अब दुबारा उनसे मिल पायेंगे ऐसी उम्मीद नहीं थी | ईद के दिन लोग अपने घर जाते हैं वह ईद से तीन दिन पहले लौट कर फिर परदेस नौकरी करने के लिए वापिस आ गये |ऐसी क्या मजबूरी थी उन्हें वापिस आना पड़ा ? मैने उनके लिए उनकी पसंद का शाका हारी खाना और खीर बनायी वह अनमने से खा रहे थे | ईद ख़ुशी का अवसर था परन्तु पति पत्नी के चेहरे पर गहरी उदासी थी वह हमसे अपना दुःख बाँटने आये थे |उन्होंने बताया पठानों में रिवाज है एक बार परिवार में बटवारा होता है जिसकी जो कमाई होती है वह घोषित करता है कोई झूठ नहीं बोल सकता बीच में कुरान रखी जाती है मैं अकेला विदेश गया था आप तो जानते हैं मैं बार्डर एरिया में पैसे के लिए रहा जिससे अधिक से अधिक डालर कमा सकूं आगे पढ़ने के लिए वियाना जाना चाहता था सरकारी नौकरी थी एक बार हाजिर हो कर फिर छुट्टी लेनी थे लेकिन मुझे सपने में भी ख्याल नहीं था वहाँ जाते ही बटवारे की बात होगी मेरे भाई जान कहते थे तुम जितना चाहते हो पढ़ो अब्बा के पास एक खेत था वह भी तुम्हारे जाने के बाद छोटे भाईयों ने बेच लिया अम्मी मेरे पास रहती हैं सब तुम्हारी अपनी कमाई है बटवारा कैसा ? लेकिन जैसे ही मैं अपने देश लौटा मुझसे छोटे भाईयों ने गावं के बड़े बुजुर्ग बुलाये गये बीच में अम्मी को भी बिठाया गया साथ ही बंदूक रख बटवारे की बात चलाई | मेरे बड़े भाई ने सबके लिए बहुत किया था जब सब अपने पैरों पर खड़े थे उन्होंने अपने और अपने बच्चों के भविष्य के लिए पैसा जोड़ा घर पर प्रेक्टिस भी करते थे आमदनी अच्छी थी और किसी भाई के पास कुछ नहीं था | हमारे आठों भाईयों में मेरे और भाई के पैसे का बटवारा होना था | मेरा चेहरा काला पड़ गया था | मेरे एक भाई ने कहा बाबू साहेब आप तो ढेरो कमा लेंगे आपका क्या हमसे पूछो कैसे गरीबी में दिन काट रहें हैं मेरे सामने बंदूक थी एक बार मन में आया इसे उठा कर सबको मार दूँ परन्तु इल्म के हाथों मजबूर था मैने अपना पैसा विदेश मे डालर में रखा था सुबह ही भाईयों ने आकर अपने हिस्से का चैक मुझसे ले लिया|
मैने कभी अपनी बीबी के लिए जेवर नहीं लिया सोचा था सुफिया की नौकरी है वह पेशावर रहेगी अम्मी को गाँव से साथ ले आयेंगे मैं परदेस में पढ़ाई कर लूंगा वह दोनों रो पड़े |हम जानते थे बार्डर पर सेवा करना कितना मुश्किल है कभी भी हमला होता था डॉ हुनर गुल इन्सान नहीं फरिश्ता थे बंकर में भी नहीं जाता थे हर वक्त जख्मी की सेवा उनका धर्म था | यह उस जमाने का कानून था जब कोई अंतर्राष्ट्रीय बार्डर नहीं होता था कहीं भी निकल गये कमा लाये नहीं तो लूट लाये| हमने पूछा अब आपके पास कुछ बचा है | उन्होंने बताया कुछ नहीं पहले से तय था अम्मी मेरे साथ रहेंगी उनकी देखभाल अच्छी हो सकेगी | मैने बचा पैसा भाईजान को दे दिया वह ले नहीं रहे थे ,जब तक मैं परदेस में हूँ अम्मी को कोई तंगी न हो भाई जान कलप रहे थे हाय तेरी नेक कमाई थी और तेरे हाथ खाली हैं ,भाभी जान सिर झुकाए बैठी थी | मेरी नेक भाभी उनके बच्चे बड़े हो गये थे पढ़ते थे भाई को फिर से कमर कसनी थी |
डॉ हुनर गुल के अब्बा नौर्थ वेस्ट फ्रंटियर के गरीब किसान थे उनके आठ बेटे और एक बेटी थी बड़ी गरीबी से दिन गुजरते थे |उन भाई बहनों को ईद के दिन कपड़ों में पठानी कमीज मिल जाये बहुत बड़ी बात थी छोटे बच्चों को सलवार भी नसीब नही हो पाती थी सलवार पुरानी फटी ही पहननी पडती थी या वह भी नहीं | कुछ बड़ा होने पर ईद के लिए वह सब छोटा मोटा काम कर थोड़े से पैसे जमा कर तब जाकर मेला देखने जाते थे परन्तु पैसे इतने कम होते थे कुछ भी खरीद नहीं सकते थे | उनके बड़े भाई को वहाँ के सरकारी अस्पताल में कम्पाउंडर की नौकरी मिल गई उनकी तनखा से घर चलता था वह घर -घर जा कर सुई पट्टी जैसे कुछ काम कर लेते थे जिसके बदले में लोग सौगात में अंडे या मुर्गी देते थे |हुनरगुल और उनसे दूसरे नम्बर का भाई पढ़ने में बहुत अच्छे थे | इनका एडमीशन डाक्टरी में हो गया छोटे भाई का इंजीनियरिंग में लेकिन एडमिशन के पैसे नहीं थे फ़ीस जमा करने के लिए कराची बन्दरगाह पर मजदूरी करने के लिए गये जहाँ वह लोडर का काम कर इतने पैसे ला सके जिससे एडमिशन हो सके आगे का खर्चा उनके बड़े भाई जान को उठाना था |भाई जान बहुत मेहनत करते थे अब वह दूर दराज पहाड़ी गावों में सुई पट्टी करने जाने लगे लम्बे काम करने पर जैसे आपरेशन के बाद की पट्टियाँ ,खाते पीते लोग उन्हें साल छमाही दुम्बा दे देते थे उसे भी बेच कर वह भाईयों की किताबों का खर्चा उठाते थे | उन्होंने बताया हम ईद पर कभी घर नहीं जा सके |बचपन में भी लगभग आधी अधूरी ईद होती थी इतनी गरीबी ऊपर से इतने बच्चे |हर छुट्टी में उन्हें आगे की पढाई चलाने के लिए कराची बन्दरगाह मजदूरी करने जाना पड़ता था| मैने कहा आप ट्यूशन कर खर्चा उठा सकते थे उन्होंने कहा हम अफरीदी पठान हैं हमारी कौम जाहिलों से भरी हैं उन्हें अपने एरिया में विकास भी नहीं चाहिए न बिजली न सड़क पढ़ने का सवाल ही नहीं बहुत कम लोगों के बच्चे पढ़ते थे ज्यादतर लोग अफीम की खेती करते हैं अत: वह सेना या पुलिस को उधर आने नहीं देते | आपसी रंजिश में एक दूसरे पर बंदूके तान कर कहते “मुझ पर खून सवार है या तू मुझे मार दे नहीं तो मैं तुझे मार दूंगा |” शिक्षा ने मुझे समझदार लेकिन बुजदिल बना दिया | इस कष्ट से उनकी पढाई पूरी हुई| भाई की इंजीनियरिग पहले खत्म हुई उसे सरकारी नौकरी मिल गई समझ लीजिये होश में पहली ईद थी जो बड़ी धूमधाम से मनाई गई परन्तु अभी ईदी देने की हैसियत नहीं थी | जब मेरी नौकरी लगी अम्मी जान ने सबको ईदी दी उस दिन अम्मी सारा दिन अल्लाह का शुक्र अदा कर रोती रही अब्बा पहले ही फौत कर गये थे | हम सबकी आँखों में पानी आ गया |हुनर गुल जिस परिवार में ज्यादा बच्चे देखते थे दुखी हो कर कहते थे क्यों इतने बच्चे पैदा करते हो क्या इन्हें गिदा ( भिखारी )बनाओगे ?
सुफिया मेरी प्यारी सहेली मैं उसे कभी नहीं भूली न वह मुझे भूली होगी उसकी एक ही इच्छा थी एक ऐसा बेड़े ( आंगन) वाला घर जिसमें एक तरफ भाभी रहती हो दूसरी तरफ वह ,दिन भर अपने अपने छज्जे पर बैठ कर गप्पें मारें | उसके पिता और डॉ हुनरगुल के पिता दोनों बचपन के दोस्त थे वह फौज में भरती हो गये लेकिन हुनरगुल के अब्बा ने गाँव नहीं छोड़ा लेकिन अपनी दोस्ती को और मजबूत करने के लिए सूफिया और हुनर गुल को बचपन मे नाम जद ( रिश्ता पक्का ) कर दिया सुफिया दो भाई बहन थे उसके बड़े भाई पाकिस्तान आर्मी में कर्नल थे वह काफी समय तक सऊदिया की मिलिट्री सर्विस में रहे और सूफिया एक टीचर थी | मैंने एक दिन सूफिया से पूछा यदि हुनरगुल डाक्टर नहीं होते तो क्या आपकी शादी होती? सुफिया ने बताया न करने पर इतना खूनखराबा होता आप सोच नहीं सकती पठान अपनी जुबान से नहीं फिर सकते| सुफिया की तकदीर बहुत अच्छी थी डॉ हुनरगुल ने बताया सूफिया के काबिल बनने के लिए मैं पढ़ा ,कराची के बन्दरगाह में बोझा ढोया हैं |
शानदार हंसों का जोड़ा लगता था दोनों लम्बे छरहरे, जहीन थे | अब वह सदा के लिए ईरान छोड़ रहे थे हुनर गुल को पढने जाना था वह अपनी बीबी को भी साथ ले जा रहे थे | में जम कर बर्फ पड़ रही थी सूफिया ने अपने शौहर से कहा हुनर गुल तुमसे जीवन में कुछ नहीं मांगूगी बस ईरान को खुदा हाफिज करने से पहले भाभी और डाक्टर साहब से मिला दो| हुनर गुल मजबूत गाड़ी के पहियों में जंजीर लपेट कर सुफिया को मुझसे मिलाने लाये सूफिया की गोद में उनका पहला बेटा था | रात भर रह कर जब वह लौटे सुफिया ने कहा मेरी कब्र में सोयी रूह भी आपको याद करेगी खुदा हाफिज हमेश |गाड़ी धीरे धीरे बर्फीली पहाड़ी पर चढ़ती रही हम परिवार सहित उनको जाते देखते रहे बच्चे अपने चाचा चाची के लिए रो रहे थे | हमारे अपने लगने वाले दुश्मन देश के बाशिंदे , उनके और हमारे बीच में अब लम्बी सरहद है जहाँ गोलियाँ और गोले चलते रहते हैं सरहद की हिफाजत के लिए जान हथेली पर रख कर सैनिक हर समय तत्पर रहते हैं | हजारों आतंकी हमारी सीमा में घुसने के लिए तैयार खड़े हैं |कई आतंकवादी घटनाओं को अंजाम दिया गया हैं| पाकिस्तानी हकूमत ,आर्मी और हाफिज सईद जैसे सिर फिरे रोज धमकियाँ देते रहते हैं हिन्दुस्तान जैसे विशाल परमाणु शक्ति से सम्पन्न देश को अपनी परमाणु शक्ति होने का भय दिखाते है| अब हमसे सब कितने दूर हैं |
डॉ शोभा भारद्वाज

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग