blogid : 316 postid : 1391772

46 हजार साल पुराना पक्षी मिला, देखकर आश्‍चर्य में पड़े वैज्ञानिक

Posted On: 23 Feb, 2020 Hindi News में

Rizwan Noor Khan

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

1219 Posts

830 Comments

पृथ्‍वी पर जीवन की उत्‍पत्ति को लेकर वैज्ञानिक लगातार खोज जारी रखे हुए हैं। वैज्ञानिकों को हाल ही में एक ऐसे पक्षी के अवशेष मिले हैं जो 46000 साल पुराना है। अवशेषों की जांच के बाद पता चला है कि वह हिमयुग के दौरान विचरण करता था। वह कैसे मरा इस बारे में वैज्ञानिक लगातार रिसर्च कर रहे हैं। इस पक्षी के मिलते ही दुनियाभर के जीव प्रेमियों में हलचल मच गई है।

 

 

 

 

हिमयुग के दौर के जीवाश्‍म
वैज्ञानिकों के एक दल ने खुलासा किया है कि उन्‍हें बर्फ में दबा एक पक्षी मिला है। सीएनएन के अनुसार साइबेरिया में मिले इस पक्षी के डीएनए की जांच चल रही है। शुरुआती जांच में वैज्ञानिकों को पता चला है कि यह पक्षी आइस एज के दौरान का है और यह हार्न्‍ड लार्क पक्षी जैसा है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस खोज से हिमयुग के दौरान जीवों के जीवनदशा को समझने में मदद मिलेगी।

 

 

 

बर्फ में दबे रहे अवशेष
सीएनएन के मुताबिक साइबेरिया के उत्‍तर पश्चिमी इलाके में बसे बेलाया गोरा गांव में स्‍थानीय शिकारियों को एक पक्षी के जीवाश्‍म बर्फ में जमे हुए मिले। अवशेष को उन शिकारियों ने स्‍वीडन म्‍यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्‍ट्री के विशेषज्ञों को जांच के लिए सौंप दिए। जांच में विशेषज्ञों को पता चला कि वह जमा हुआ अवशेष एक पक्षी का है जो 46000 साल पहले का है।

 

 

 

 

साइबेरियाई वैज्ञानिकों में हलचल
वैज्ञानिकों का मानना है कि यह अवशेष हिमयुग के दौर का है और इस दौरान पक्षियों ने अपने जीने लायक वातावरण बना लिया था। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस पक्षी के जीवाश्‍मों की जांच से उस वक्‍त के जीवनकाल के बारे में जानकारी जुटाने में मदद मिलेगी। इस पक्षी के अवशेष मिलने के बाद से जीवविज्ञानियों में हलचल शुरू हो गई है।

 

 

 

 

क्‍लाइमेट चेंज और जीवनशैली पर रिसर्च
जांच कर रहे विशेषज्ञों का अनुमान है कि यह पक्षी हार्न्‍ड लार्क प्रजाति का हो सकता है और यह अपनी प्रजाति के जीवित पक्षियों का पूर्वज भी हो सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हार्न्‍ड लार्क प्रजाति के कुछ पक्षी उत्‍तरी रूस और मंगोलिया में पाए जाते हैं। रिसर्च से वैज्ञानिक पर्यावरण में हुए अब तक बदलाव और जीवों की जीवनशैली को पता करने में जुटे हुए हैं। इस पक्षी के अवशेष इतने साल बाद भी बचे रहने के पीछे की वजह बर्फ में दबे होना माना जा रहा है।…NEXT

 

 

 

Read More:

 

सोने की खदान की सुरक्षा कर रहे जहरीले सांप

Coronavirus: चीन ने अब 6 दिन में बना दी मास्‍क फैक्‍ट्री, पहले 8 दिन में बनाया था अस्‍पताल

3 हजार साल पुरानी दवा से ठीक हो रहा कोरोना वायरस, चीन का खुलासा

कैंसर और कोरोना वायरस से दुनियाभर में तबाही, एक साल में कैंसर से 1 करोड़ लोगों की मौत

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग