blogid : 316 postid : 1027140

समय पर स्कूल पहुंचने के लिए हर रोज तैरकर नदी पार करता है यह अध्यापक

Posted On: 18 Aug, 2015 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

979 Posts

830 Comments

शिक्षक का पेशा एक बेहद सम्मानजनक पेशा माना जाता है. एटी अब्दुल मलिक जैसे कुछ शिक्षकों के कारण यह पेशा और भी सम्मानजनक हो जाता है. मलिक हर रोज अपने स्कूल में समय पर पहुंचने के लिए मटमैले पानी की नदी में तैरकर जाते हैं. सुबह-सुबह मलिक द्वारा नदी पार करने का नजारा इतना आम हो गया है कि अब वे लोगों की घड़ी बन चुके हैं.


Teacher_Swim


हर सुबह 9 बजे अब्दुल मलिक नदी में प्रवेश कर जाते हैं और 10 मिनट बाद नदी पार कर अपने स्कूल में पहुंच जाते हैं. अब्दुल मलिक केरल के मलप्पुरम  जिले के एक मुस्लिम लोअर पब्लिक स्कूल में सन 1992 से पढ़ा रहे हैं.


Read: हम दो और हमारा एक ब्वॉयफ्रेंड, पढ़िए कपड़ों से लेकर अपना ब्वॉयफ्रेंड तक शेयर करने वाली दो जुड़वा बहनों की हैरान कर देने वाली कहानी


पहले अब्दुल मलिक स्कूल पहुंचने में अक्सर लेट हो जाया करते थे. उन्हें 2 बसे बदलनी पड़ती थी और करीब २ किलोमीटर पैदल भी चलना पड़ता था. इस तरह स्कूल पहुंचने में उन्हे 3 घंटे का समय लग जाता था. फिर उन्होंने निश्चय किया की वे अब से स्कूल पहुंचने के लिए कडालुंडी नदी को पार किया करेंगे. इस नदी को तैरकर पार करने में उन्हें 10 मिनट लगते हैं. फिर तीन मिनट की पैदल यात्रा के बाद वे अपने स्कूल में होते हैं. इस तरह मलिक न सिर्फ समय बल्कि रोज के करीब 30 रूपए भी बचा लेते हैं.


Teacher_Swi



नदी तट पर पहुंचकर वे अपने कपड़े और अन्य वस्तुएं एक प्लास्टिक बैग में डाल देते हैं और आंखों पर एक चश्मा पहने एक हाथों से अपने झोले को पानी की सतह से ऊपर टांगे, एकट्यूब के सहारे तैर कर नदी के दूसरे किनारे पहूंच जाते हैं. अब्दुल मलिक का कहना है कि इसमें उन्हें कभी कोई कठिनाई नहीं महसूस हुई.



Teacher_Sw


अब्दुल मलिक एक पर्यावरणविद भी हैं, साथ ही एक उत्साही तैराक भी. वे अपने विद्यार्थियों को समय-समय पर तैराकी के लिए फील्ड ट्रिप पर ले जाते हैं. उन्हें उम्मीद है कि इस तरह से उनके विद्यार्थियों में पर्यावरण संरक्षण की प्रवृत्ति जन्म लेगी. Next…


Read more:

भारत का एक ऐसा रहस्यमयी मंदिर जो कभी दिखता है तो कभी अपने आप गायब हो जाता है

ड्यूटी पर फिसली इनकी नज़रें

ये रास्ता जाता है विश्व के सबसे खतरनाक गांव की ओर


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग