blogid : 316 postid : 1390226

3-4 साल के बच्चों में भी बढ़ रहा है डिप्रेशन का खतरा, पेरेंट चाइल्ड इंट्रेक्शन थेरेपी के बारे में फैलाई जा रही है जागरूकता

Posted On: 19 Nov, 2018 Hindi News में

Pratima Jaiswal

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

844 Posts

830 Comments

आधुनिक जीवनशैली में बच्चों को एक अच्छी परवरिश देना किसी चुनौती से कम नहीं है। शहरों में तो बच्चों की देखभाल करना और भी मुश्किल है। जब मां-बाप दोनों ही वर्किंग हो, तो घर में किसी करीबी या मेड के सहारे बच्चों को छोड़ना पड़ता है। ऐसे में बच्चों के मन में क्या चलता है, इस बात का अंदाजा लगाना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। अगर आप भी किसी बच्चे के मां-बाप हैं, तो आपको अपने बच्चे की मनोस्थिति और उसकी हरकतों पर ध्यान देना चाहिए, जिससे कि आपको पता चल सके कि कहीं आपका बच्चा डिप्रेशन का शिकार तो नहीं है। बीते कुछ सालों में 3-4 साल के बच्चों में डिप्रेशन से जुड़े मामले देखे गए हैं।

 

 

पेरेंट चाइल्ड इंट्रेक्शन थैरेपी से मिल सकती है मदद
हाल ही में हुए एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है कि इस नई थैरेपी के तहत अभिभावक बच्चों से बातचीत करने की कला सीख बच्चों में अवसाद (डिप्रेशन) को कम कर सकते हैं। इस अध्ययन के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि पेरेंट चाइल्ड इंट्रेक्शन थैरेपी (पीसीआईटी) से बच्चों में व्यवहारिक तौर पर होने वाले विकार से निजात दिलाई जा सकती है। साथ ही यह थैरेपी बच्चों के छोटी उम्र में हुए डिप्रेशन से बाहर निकालने में कारगर साबित हो सकती है।

 

 

क्या है पेरेंट चाइल्ड इंट्रेक्शन थैरेपी
पेरेंट चाइल्ड इंट्रेक्शन थैरेपी(पीसीआईटी) में अभिभावकों को बच्चों से बात करने की सही तकनीक सिखाई जाती हैं। इन तकनीकों का अभ्यास पेरेंट्स पहले विशेषज्ञों की देखरेख में कर सकते हैं। कम उम्र में बच्चों को अवसाद से बचाने के लिए शोधकर्ताओं ने इस थैरेपी में उनके भावनात्मक विकास के लिए भी मोड्यूल तैयार किया है। पीसीआईटी थैरेपी में इस्तेमाल होने वाली तकनीकों से पेरेंट्स बच्चों को उनकी भावनाओं पर नियंत्रण रखना सीखा सकते हैं और साथ ही वे उनके बेहतर भावनात्मक सहभागी भी बन सकते हैं। इन तकनीकों को इस तरह तैयार किया गया है कि बच्चे अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखने के साथ-साथ भावनाओं को बेहतर तरीके से व्यक्त भी कर पाएं।

तो, बच्चों में डिप्रेशन के मामले सामने न आए, इसके लिए ये बेहद जरूरी है कि बच्चों से बात की जाए और कुछ वक्त उनके साथ बिताया जाए…Next

 

Read More :

इस देश में पचास लाख में बिक रहा है 1 किलो टमाटर, महामंदी के दौर से लोग हुए बेहाल

जीका वायरस की चपेट में राजस्थान, जानें क्या है जीका वायरस और कैसे फैलता है

वो नेता जो पहले भारत का बना वित्त मंत्री, फिर पाकिस्तान का पीएम

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग