blogid : 316 postid : 256

शादी के बाद किसी और से प्यार? [Extra-marital Relations]

Posted On: 28 Aug, 2010 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

1001 Posts

830 Comments


विवाह प्यार और अपनापन का एक पवित्र रिश्ता है. पति और पत्नी के बीच सात जन्मों का एक अटूट बंधन. दोनों आपस में साथ देने का और आपस में विश्वास की एक ऐसी डोर बांधते हैं जिसे केवल मृत्यु ही जुदा करती है. लेकिन इतने पावन रिश्ते को भी नजर लगती है. पति और पत्नी के इस पवित्र बंधन में भी कई बार दरार पड़ जाती है जबकि पति, पत्नी के बीच कोई और आ जाता है. और यहीं से शुरू हो जाती हैं तमाम समस्याएं फिर नौबत आ जाती है लड़ाई-झगड़े व तलाक की.

एक अंजान रिश्ता
एक अंजान रिश्ता
अनिल एक सॉफ्टवेयर कंपनी में कार्यरत है और उसकी शादी कुछ दिन पहले ही निशा से हुई. पहले पहल तो सब ठीक-ठाक चला, फिर अनिल का देर से आना शुरु हो गया. पहले तो उसकी बीवी ने यह सब नजरअंदाज कर दिया लेकिन फिर एक दिन निशा पर पहाड़ टूट गया. रात के ढ़ाई बजे अनिल के फोन पर किसी ने एसएमएस भेजा जिसमें लिखा था “आई लव यू, आई मिस यू” इतना पढ़ते ही निशा के होश उड़ गए. अगले दिन निशा ने अपने भाई को यह बताया और उसके भाई ने अनिल को रंगे हाथों उसकी प्रेमिका के साथ उसे पकड़ लिया. ऐसा नहीं था कि अनिल की प्रेमिका नहीं जानती थी कि अनिल शादी-शुदा है. इस के बाद निशा ने अनिल से तलाक ले लिया और अनिल अकेला रह गया.

ऐसा ही कुछ कविता के साथ भी हुआ. उसके पति राकेश ने उसके अफेयर का पता लगाने के लिए तो बाकायदा एक जासूस को भी लगाया, और यहां भी वही हुआ. पति, पत्नी के बीच वो ने तलाक करा दिया लेकिन इस कहानी में एक ऐसा भी पक्ष था जो सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ वह था कविता और राकेश की बेटी प्रीती. कोर्ट में उसने अपने सबसे प्यारे मां-पिता को लड़ते हुए देखा. उसके बाल मन में शादी के प्रति बड़ा विरोध जागा.

rebuilding_marriage_after_infidelityयह तो थे कुछ उदाहरण विवाहेत्तर संबंधों के. कहते हैं घर की मुर्गी दाल बराबर होती है, यह वाक्य विवाह के बाद परिवार में फिट बैठता है. अक्सर आजकल के मॉडर्न कल्चर में जहां पति और पत्नी दोनों प्रोफेशनल होते हैं और काम करते हैं वहॉ ऐसी स्थिति में कार्यस्थल पर किसी और से नजरे मिल जाएं तो दोस्ती की डोर प्रेम का रुप धारण कर लेती है.

विवाहेत्तर संबंध अगर केवल भावनात्मक हों तो कोई बात नहीं. आज कल कार्यस्थल पर कुछेक दोस्त ऐसे मिल ही जाते हैं जो काफी करीब आ जाते हैं लेकिन जब यही भावनात्मक संबंध अपनी हदें पार कर शारीरिक संबंध तक पहुंच जाता है तब पति-पत्नी के बीच एक दीवार बन जाती है. जो अगर छुपी रहे तो ठीक है वरना शादी से तलाक का रास्ता ज्यादा दूर नहीं रहता.

क्या हो सकता है समझौता?
क्या हो सकता है समझौता?
विवाहेत्तर संबंधो के कई कारण हैं जैसे पति-पत्नी के बीच मनमुटाव, शादी बिना मर्जी के होना, प्रेम-प्रसंग आदि. लेकिन सबसे बड़ी वजह होती है दांपत्य जीवन में समय की कमी और बाहरी प्रेम-प्रंसग. प्यार पर किसी का जोर नहीं होता, यह तो बस हो जाता है. इस हवा के झोंके  में बह कर लोग अपने दांपत्य जीवन की बलि दे देते हैं. प्रेम-प्रसंग के अलावा कार्यस्थल पर अधिक वक्त गुजारना और सबंधों को समय न देना भी इसके लिए उत्तरदायी हैं.

आजकल के परिवेश में सेक्स प्यार का नाम बनता जा रहा है. पुरुषों के साथ महिलाएं भी एक से अधिक सेक्स पार्टनर रखने में दिलचस्पी रखने लगी हैं. ऐसे में विवाह के बाद भी किसी दूसरे से संबंधो की चाह पति-पत्नी के रिश्ते के आड़े आ जाती है. स्थिति इसलिए भी भयावह है क्योंकि पुरुष चाहे 10 महिलाओं के साथ संबंध बनाए मगर वह यह कतई बर्दाश्त नहीं करता कि उसकी पत्नी किसी गैर-मर्द से संबंध रखे.

ऐसे रिश्ते बन तो जाते है लेकिन टूटने का नाम जल्दी नहीं लेते. मगर हां, यह शादी जरुर तुड़वा देते हैं. तलाक की स्थिति पैदा कर ऐसे रिश्ते पारिवारिक संबंधो को ठेस पहुंचाते हैं. तलाक बेशक एक रिश्ता खत्म करने का आसान तरीका है लेकिन इससे पति-पत्नी के अलावा और भी कई लोग आहत होते हैं जैसे बच्चे और घर के बूढ़े सदस्य. अक्सर यह सब होते हुए बच्चे भी देखते हैं और बालमन तो होता ही नाजुक है. इन सब की उनके आने वाले कल पर छाप अवश्य दिखती है.

विवाहेत्तर संबंध नैतिक मूल्यों के तो खिलाफ है ही यह मानवीय मूल्यों को भी धराशायी कर देता है. समाज नाम की व्यवस्था पर भी इसका अच्छा-खासा असर देखने को मिलता है. आज कल के फैशन-परस्त युवाओं को ऐसे रिश्तों में बहुत आनंद आता है, वह इसे अपनी आजादी के तौर पर देखते हैं लेकिन एक उम्र सीमा के बाद जब आकर्षण खत्म हो जाता है और शरीर बुढ़ापे की ओर जाने लगता है तो फिर अकेलेपन की समझ आती है और साथी का महत्व समझ आता है. चन्द पलों के आवेश में आकर शादी को तलाक में बदल देने वाले आजकल के युवा बुढ़ापे में रोते हैं. आज कल बढ़ते तलाक के मामले इस बात का सबूत हैं कि समाज में विवाहेत्तर सबंध कितने जोरों से चलते हैं.

आज हमारा समाज हवा में झोंके में बह  रहा है. हमारे और आपके सभी के घरों में युवा-वर्ग है. आप क्या चाहते हैं? क्या विवाहेत्तर सबंधों की दुनियां को आप भी मनुष्य की आजादी से जोड़ कर देखते हैं?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग