blogid : 316 postid : 1151789

साफ-सफाई करती थी ये महिला, प्रोफेसर से हुई मुलाकात ने बदल दी जिदंगी

Posted On: 10 Apr, 2016 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

1077 Posts

830 Comments

‘मुझे लगता है कि अगर एक राइटर क्या पीछे छूट गया या क्या भूल गया, इस बात की चिंता करने लग जाएगा तो शायद वो एक शब्द भी नहीं लिख पाएंगा.’ ‘ए लाइफ लेस आर्डिनरी’ किताब की लेखिका बेबी हालदार की लिखी ये लाइन जिदंगी के सारांश को समझने के लिए काफी है. हर किसी इंसान के जीवन में ऐसे कड़वे अनुभव होते हैं जिन्हें चाहकर भी भुलाया नहीं जा सकता. लेकिन जो लोग इन सभी कड़वे अनुभवों को भूलकर आगे बढ़ते हुए अपना जीवन जिंदादिली से जीते हैं पहचान तो उन्हीं की बनती है.


baby the writer



बेबी हालदार भी ऐसे ही लोगों में से हैं जो अपने बुलंद हौसलों से फर्श से अर्श तक का सफर पूरा करते हैं. बेबी हालदार पांच-छह साल पहले तक गुमनाम जरूर थी मगर आज वह इतनी चर्चित है कि लेखन की दुनिया में एक जाना पहचाना नाम है हालांकि आज भी बेबी का ठिकाना वहीं है, प्रो.प्रबोध कुमार के घर- डीएलएफ सिटी गुड़गांव में. प्यार से जिस घर को वह तातुश कहती हैं. तातुश का अर्थ होता है सबसे अधिक प्रिय. बेबी साहित्यिक कार्यक्रमों में भाग लेने हांगकांग, पेरिस से भी जा चुकी हैं. आपको बेबी की कहानी सुनकर हैरानी होगी. असल में उनकी कहानी  13 साल में शुरू हुई. जब उनकी सौतेली मां ने उनकी शादी करवा दी.


baby 125


Read : लोगों की नजरों से दूर थी यह दुनिया की सबसे वृद्ध महिला, उम्र जान रह जाएंगे हैरान


शादी के बाद भी उनकी मुश्किलें कम नहीं हुई. उनका पति उन्हें रोज मारता था. अपनी शादीशुदा जिंदगी में उन्हें कभी प्यार नहीं मिला. बेबी के साथ उनका पति जो भी व्यवहार करता था, उन दुखभरे अनुभवों को वो रात में पन्नों पर लिख दिया करती थी. यहां से उनकी लेखनी में धार आनी शुरू हुई, और फिर एक रोज उन्होंने अपने पति को छोड़ने का फैसला कर लिया. वो प्रो.प्रबोध कुमार के घर साफ-सफाई का काम करने लगी. इस दौरान उन्होंने शब्दों की नई दुनिया के बारे में जाना.


Read : पोते को अपने गर्भ से जन्म देने के लिए महिला पहुंची कोर्ट में


उन्होंने अपने जीवन के हर लम्हें को अपनी आत्मकथा ‘आलो आंधरी’ के रूप में 2002 में उतारा. इसके बाद तो लेखन की दुनिया में वो जाना पहचाना नाम बन गई. उनकी किताब ‘ए लाइफ लेस आर्डिनरी’ का 12 भाषाओं में अनुवाद किया जा चुका है. इशस्त रूपांतर, घोरे फेरर पथ आदि किताबें उनकी बेस्टसेलर्स किताबों में से एक है…Next

Read more

डिलीवरी रूम के बिस्तर पर मेकअप करते हुए इस महिला की फोटो हुई वॉयरल

लड़के का सिर काटकर मेट्रो स्टेशन पर घंटों घूमती रही महिला, हत्या के पीछे बताई ये चौंका देने वाली वजह

क्यों महिलाओं के बारे में ऐसा सोचते थे आचर्य चाणक्य

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग