blogid : 316 postid : 1390320

सर्दियों में खतरनाक हो सकता है हार्ट रेट का बढ़ना या घटना, इन 3 बातों का रखें ख्याल

Posted On: 19 Dec, 2018 Common Man Issues में

Pratima Jaiswal

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

986 Posts

830 Comments

सर्दियां आते ही सेहत से जुड़ी परेशानियों को झेल रहे लोगों को और भी परेशानी होने लगती है। जैसे हड्डियों या दिल की बीमारियों से जूझ रहे लोगों को सर्दियों में बहुत कुछ झेलना पड़ता है। तापमान में गिरावट के चलते उन्हें अपना खास ख्याल रखना पड़ता है। आज हम आपको बताएंगे सर्दियों में दिल की धड़कनों का ज्यादा बढ़ना या घटना कितना खतरनाक हो सकता है।

 

 

सर्दियों में हार्ट रेट बढ़ना या घटना कितना खतरनाक
हृदय गति यानी हार्ट रेट का अचानक बढ़ना या घटना, दिल के अस्वस्थ होने का संकेत है। सर्दी में ठंड लग जाने के कारण, पुराने हृदय रोग की वजह से या फिर उम्रदराज लोगों में हार्ट रेट बढ़ने के मामले बढ़ जाते हैं। ऐसे में अगर आप अपनी जीवनशैली में थोड़ा बहुत बदलाव करके सावधानी नहीं बरतते हैं, तो हार्ट रेट से जुड़ी समस्या आपके लिए खतरनाक हो सकती है।

 

ये परेशानियां बढ़ सकती हैं
एक वयस्क व्यक्ति के हृदय की गति आमतौर पर 60 से 100 बीट्स तक होती है। सामान्य हृदय गति कई बातों पर निर्भर करती है इसलिए अगर आपका हार्ट रेट सामान्य से थोड़ा बहुत घटता-बढ़ता है, तो घबराएं नहीं। चक्कर आने, सिर दर्द, छाती में दर्द, जबड़ों में खिंचाव या दर्द, आंखों से धुंधला दिखने जैसी स्थितियों में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। अगर आप अपना हार्ट रेट जांचना चाहते हैं तो रात को सोते समय बिस्तर पर आराम की अवस्था में अपने दिल की धड़कन की गिनती करें।

 

हार्ट रेट घटने या बढ़ने के कारण

पर्याप्त नींद न लेना
नींद की कमी से चिंता, तनाव और स्लीपिंग डिसऑर्डर जैसी समस्याएं होती हैं, जिससे दिल की सेहत पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है इसलिए चिंता और तनाव छोड़ें, ताकि आपको गहरी नींद आए। रोज सोने और जागने का एक निश्चित समय तय करें और 6-8 घंटे की नींद जरूर लें। हमेशा हंसने और मुस्कुराने की आदत डालें। कई शोधों से पता चला है कि अगर रोज 15 मिनट हंसा जाए तो इससे शरीर में रक्त का प्रवाह 22 प्रतिशत तक बढ़ जाता है।

 

 

30 मिनट एक्सर्साइज है बहुत जरूरी
रोजाना कम से कम 30 मिनट एक्सर्साइज जरूर करें। इससे दिल और शरीर दोनों स्वस्थ रहते हैं। एक्सर्साइज करने से शरीर की आर्टरीज लचीली बनती हैं, जिससे शरीर में रक्त का प्रवाह बेहतर होता है और दिल को मजबूती मिलती है। इसके लिए जिम जाना ही जरूरी नहीं। रोजाना कुछ देर पैदल चलना, साइकल चलाना, डांस करना, स्विमिंग करना और योग करना भी काफी है।

 

अपना वजन न बढ़ने दें
हार्ट रेट को सही बनाए रखने व हृदय की सेहत के लिए अपने वजन को नियंत्रण में रखना बेहद जरूरी है। मोटापा दिल से संबंधित कई बीमारियों की वजह बनता है। अपनी लंबाई के हिसाब से अपना वजन नियंत्रित रखें। अपने वजन पर नियमित रूप से नजर बनाए रखें…Next

 

Read More :

2030 तक डायबिटीज के 4 करोड़ मरीज रह जाएंगे दवा से वंचित! इंसुलिन की हो सकती है भारी कमी

हर 10 में 1 लड़की को है PCOD की बीमारी, सारा अली खान भी हो चुकी हैं इसका शिकार

ऐसे लोगों को डायबिटीज का होता है सबसे ज्यादा खतरा, जानें कैसे बच सकते हैं आप

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग