blogid : 316 postid : 1196355

आतंकी हमले की शिकार मलाला बनी करोड़पति, भरा 2 करोड़ रुपए का टैक्स

Posted On: 30 Jun, 2016 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

953 Posts

830 Comments

मलाला यूसुफजई को आज दुनिया का हर इंसान जानता है. तालिबान के आगे जिस नन्ही से लड़की ने हार नहीं मानी और गोली के बदले  किताब को चुना उसकी हिम्मत को दुनिया ने झुक कर सलाम किया. मलाला साहसिक होने के साथ-साथ एक शांत रहने वाली लड़की भी हैं. आतंकियों का सामना करने वाली मलाला पाकिस्तान छोड़कर ब्रिटेन के बर्मिंघम चली गई और अपने किताबों के जरिए आज दुनियाभर में मशहूर हो चुकी हैं. किसी को भी अंदाजा नहीं था कि पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा और उनके अधिकारों के लिए लड़ने वाली यह लड़की बहुत ही कम वक्तों में विश्व में नाम कमा लेगी. आज यह लड़की करोड़पति बन चुकी है.


malala


पाकिस्तान की स्वात घाटी में तालिबान शासन के बीच अपने जीवन को मलाला ने एक किताब ‘आई एम मलाला’ में उतारा है, जिसमें उन्होंने बताया है कि किस तरह वहां के लोगों का जीवन एक संघर्ष बन कर रह गया है. साथ ही, उनकी खुद की संघर्ष की कहानी का जिक्र भी इस किताब में है.


book mallala


हाल ही में आई एक रिपोर्ट के अनुसार, मलाला के अधिकारों को लेकर जो सलजई लिमिटेड (Salarzai Ltd.) नाम की कंपनी बनाई गई थी उसे करीब 10 करोड़ का फायदा हुआ है. इस कंपनी में उनके पिता और मां का भी हिस्सा है. अभी तक मलाला ने करीब 2 करोड़ का टैक्स भी भरा है.



father malala


Read: जब पाकिस्तान ने ऐसे कराई थी जगजीत सिंह की जासूसी!


मलाला पाकिस्तान में महिला शिक्षा पर भी जोर दे रही हैं. साथ ही वह दुनिया में सबसे कम उम्र में नोबल पुरस्कार पाने वाली पहली महिला हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि मलाला की पहली किताब जिसमें उनके संघर्ष की कहानी है. उसकी कुल 18 लाख प्रिंट बिके थे. मलाला ‘एजबैस्टन हाई स्कूल फॉर गर्ल्स’ में पढ़ाई करती हैं. साथ ही वह महिला शिक्षा की आवाज उठाने के लिए मोटिवेशनल स्पीच देती हैं. मलाला का सपना है कि हर लड़की को मुफ्त, सुरक्षित और गुणवत्ता पूर्ण प्राइमरी और सेकेंडरी एजुकेशन मिल सके.



speech



हम भी उम्मीद करते हैं कि मलाला का यह सपना जरूर पूरा हो. जिस तरह से उन्होंने अपने जीवन को लोगों के सामने पेश किया है वह वाकई काबिल -ए-तारीफ है…Next


Read More:

उसने चांद को गोलियों से छ्लनी करना चाहा लेकिन इस कोशिश का अंजाम क्या हुआ, खुद देख लीजिए

तीसरी पास दुकान में बर्तन साफ करने वाले को मिला पद्मश्री पुरस्कार

सुनंदा पुष्कर ‘50 करोड़ की गर्लफ्रेंड’ की जिंदगी का सफर

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग