blogid : 316 postid : 498

इंटरनेट मायाजाल से आत्महत्या की प्रेरणा

Posted On: 24 Nov, 2010 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

1076 Posts

830 Comments


इंटरनेट जब शुरु हुआ तो सबने इसकी अच्छाइयों पर जोर दिया. किसी ने इसे कलयुग का देवता घोषित किया तो किसी के लिए इंटरनेट ही सब कुछ हो गया. हर तरफ इंटरनेट ने अपनी ताकत से सबको मोहित कर लिया. लेकिन सिक्के के दूसरे पहलू पर किसी ने भी ध्यान नहीं दिया. वही दूसरा पहलू आज सबके गले की फांस बना हुआ है. जिसने हमारी जिंदगी को इतना आसान बना दिया आज वही हमारे रास्ते में अड़चने पैदा कर रहा है.

अभी हाल ही में कानपुर आईआईटी ने अपनी संस्थान में इंटरनेट के प्रयोग को सीमित करने का मन बना लिया है. इसके पीछे उनका तर्क है कि अधिक और रात भर इंटरनेट इस्तेमाल करने से छात्रों में आत्महत्या की प्रवृति का पैदा होना. कॉलेज प्रशासन का मानना है कि छात्र रात भर नेट सर्फिंग करने की वजह से सही से सो नहीं पाते , नतीजन वह दिन में तनाव में रहते हैं. इससे उनका मन पढ़ाई में नहीं लगता है जिसके बाद सही परिणाम न मिलने पर वह आत्महत्या का रास्ता चुनते हैं.

हालांकि ऐसा नहीं है कि आईआईटी ही इससे परेशान है दरअसल आज हर स्कूल, कॉलेज और यहां तक की ऑफिस भी नेट की लगती आदत की वजह से परेशान हैं.

internet क्यों बनते हैं इसके आदी

आज इंटरनेट का प्रयोग करने वाले अधिकतर लोग इसे एक मनोरंजन के साधन की तरह इस्तेमाल करते हैं जहां मनोरंजन की कोई सीमा नहीं रहती. यहां हम वह सब कर पाते हैं जिसकी हम मात्र कल्पना ही करते हैं. इसकी उपयोगिता को देखते हुए हमारा दिमाग इसका आदी हो जाता है या यों कहें इससे हमारे दिमाग को एक ऐसा अस्त्र मिल जाता है जहां दिमाग कम लगता है और काम ज्यादा हो जाता है.



Read: इंटरनेट पर इन खिलाड़ियों को सबसे ज्यादा किया गया सर्च

दिमाग जल्द ही आरामपरस्त और ज्यादा काम के बोझ से भागने लगता है. इसके साथ ही सोशल नेटवर्किंग के साथ देश विदेश में दोस्त बनाने के साथ आजकल के तनाव भरे माहौल से थोड़ा सा आराम पाने का मौका मिलता है. लेकिन यही सोशल नेटवर्किंग कई बार अत्यधिक मानसिक तनाव का कारण बनती है. ‘

फेसबुक, ट्विटर और अन्य साइटों की दुनियां में नौजवान पीढ़ी इस कदर उलझ जाती है कि वह असली दुनियां और वेब दुनियां के बीच का अंतर कर ही नहीं पाती.


Read: मोबाइल कंपनियों की चांदी होगी इस साल


बचने के तरीके

यों तो समय के साथ कदम से कदम मिलाकर चलना सही बात है लेकिन उस समय की रफ्तार से भी अगर आप ज्यादा तेज जाना चाहेंगे तो सही नहीं. जिस तरह सही मात्रा में शराब शरीर के लिए स्वास्थ्यवर्धक साबित होती है उसी प्रकार इंटरनेट का प्रयोग सही मात्रा में सेहत के लिए फायदेमंद होता है.

अक्सर माता-पिता छोटी उम्र में ही बच्चों को इंटरनेट और कम्प्यूटर आदि के बारे में काफी अधिक बता देते हैं और सोचते हैं इससे बच्चा आगे चलकर समय के साथ चल सकेगा. लेकिन वह दुनियादारी के प्रभाव में यह भूल जाते हैं कि हर चीज का एक सही समय होता है. बचपन बंद कमरों के अंदर नहीं फलता-फूलता बल्कि उसके लिए खुला वातावरण चाहिए होता है.

इंटरनेट और अन्य कम्पयूटर साम्रगियों के आदी बने लोगों के पीछे के सबसे अहम कारक अभिभावक हैं तो कुछ हाथ समाज का भी है. समाज साफ कहता है कि जो धीमा चलेगा वह रेस से बाहर होगा. आजकल अगर कोई कहे कि वह इंटरनेट के बारे में नहीं जानता तो शायद सुनने वाला उसे गंवार समझेगा लेकिन ऐसा होना नहीं चाहिए.

समाज में अधिक सक्रिय रहने से और बच्चों को बाहर खेलने का समय देने जैसे छोटे-छोटे कदमों से ही आप इस मायाजाल में फंसने से बच सकते हैं.


Read:

पहली बार मोबाइल इंटरनेट का प्रयोग कर रहे हैं तो यह फोन खरीदें

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग