blogid : 316 postid : 1389444

कलाकारों ने पेश की मिसाल, मुफ्त में बदल दी इस गंदे रेलवे स्टेशन की सूरत!

Posted On: 9 Apr, 2018 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

979 Posts

830 Comments

कहते हैं कुछ करने का जज्‍बा हो, तो सुविधाओं के अभाव में भी लोग बहुत कुछ कर गुजरते हैं। देश और समाज के प्रति प्रेम हो, तो प्रेरणा खुद मिल जाती है। कुछ ऐसा ही बिहार में देखने को मिला, जहां कलाकारों ने उलाहना को सराहना में बदल दिया। इन कलाकारों ने बिहार के उस मधुबनी रेलवे स्टेशन की सूरत बदल दी, जो कभी देश के सबसे गंदे रेलवे स्‍टेशनों में शुमार था। कभी लोग इस रेलवे स्‍टेशन पर नाक दबाकर गुजरते थे, लेकिन आज यहां की खूबसूरती देखने आते हैं। खासबात यह है कि इन कलाकारों ने इस काम के लिए किसी से कोई वेतन भी नहीं लिया है। आइये आपको इसके बारे में विस्‍तार से बताते हैं।

 

 

यात्रियों को आ‍कर्षित कर रहा मधुबनी स्‍टेशन

बिहार के मधुबनी रेलवे स्टेशन की सूरत इन दिनों बदली हुई है। कभी भारत के गंदे स्टेशनों में शुमार इस रेलवे स्टेशन की दीवारों और फुटओवर ब्रिज पर अब यहां की परंपरागत मधुबनी पेंटिंग बनाई गई है। इस वजह से अब मधुबनी स्टेशन यात्रियों के आकर्षण का खास कारण बन गया है। दूर-दूर से लोग इस पेंटिंग को देखने आते हैं। इसे करीब 225 कलाकारों ने मिलकर तैयार किया है, जिनमें ज्यादातर महिलाएं शामिल थीं। इन कलाकारों ने दो महीने तक बिना वेतन के श्रमदान के तहत इस पेंटिंग पर काम किया।

 

 

‘रेल स्वच्छ मिशन’ के तहत चला सफाई अभियान

दरअसल, भारतीय रेलवे द्वारा ‘रेल स्वच्छ मिशन’ के तहत इस स्टेशन पर सफाई अभियान चलाया गया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसमें कलाकारों ने वेतन की मांग न करते हुए 14 हजार वर्ग फीट की दीवार को ट्रेडिशनल मिथिला स्टाइल में पेंट किया। सामाजिक कार्यकर्ता, सुलभ इंटरनेशनल के फाउंडर और स्वच्छ रेल मिशन के ब्रैंड अंबेसडर बिंदेश्वर पाठक ने मधुबनी स्टेशन के वेटिंग रूम में बनी इस पेंटिंग का निरीक्षण किया। उन्हें ये पेंटिंग्‍स बेहद पसंद आईं।

 

 

त्‍योहार से लेकर भगवान तक की पेंटिंग

खबरों की मानें, तो इससे पहले अक्टूबर 2017 में इस स्टेशन पर विश्व की सबसे बड़ी करीब 7000 वर्ग फीट की वॉल पेंटिंग तैयार की गई थी। हालांकि, किन्‍हीं कारणों से यह गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल नहीं हो पाई। पेंटिंग बनाने के ज्यादातर कलाकारों में महिलाएं शामिल थीं। इसमें उन्होंने पारंपरिक त्योहार, पर्यावरण, परिवार, महिला और खेत खलिहान, भगवान राम और गणेश की बेहद कलात्मक पेंटिंग बनाई हैं…Next

 

Read More:

कॉमनवेल्‍थ में गोल्ड दिलाने वाले जीतू राय का सफर रहा मुश्किलों भरा

गंभीर बीमारियों को मात दे चुके हैं ये 5 बड़े सितारे

दिल्ली के रिहायशी इलाकों में सील हो जाएंगी दुकानें, शोरूम और रेस्तरां!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग