blogid : 316 postid : 1390621

National Vaccination Day: 5 साल तक इन टीकों के लगने से बच्चों को उम्र में नहीं होते ये हेल्थ इश्यू

Posted On: 16 Mar, 2019 Common Man Issues में

Pratima Jaiswal

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

980 Posts

830 Comments

आधुनिक वक्त में सकरात्मक बदलाव के साथ कुछ नकरात्मकता भी सामने आई हैं। जैसे, प्रदूषण की वजह से हम न सिर्फ कई अनचाही बीमारियों के शिकार हो रहे हैं बल्कि हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी प्रभावित हो रही है। ऐसे में आने वाले समय में स्थितियां और भी खतरनाक हो सकती हैं इसलिए बच्चों के जन्म के साथ 5 महीने तक उन्हें कुछ जरूरी टीके लगवाने बहुत जरूरी है, जिससे कि कई बीमारियों से बचाव के साथ उनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ सके। टीकाकरण से हर साल लाखों लोगों की जान बचाई जाती है। साथ ही, वैश्विक रूप से दुनिया के सबसे सफल और लागत प्रभावी स्वास्थ्य बचाव कार्यों में से एक के रूप में पहचाना जाता है। जिसके बावजूद आज भी दुनिया में लगभग 2 करोड़ बच्चे ऐसे हैं जो टीकाकरण से वंचित हैं।

 

 

ये टीके हैं बेहद जरूरी
गर्भवती महिला एंव गर्भ मे पल रहे शिशु को टिटेनस की बीमारी से बचाने के लियेटिटेनसटाक्साइड 1 / बूस्टर टीका और दूसरा टीका एक महिने के अंतर में लगवाएं। अगर पिछले तीन वर्ष मे दो टीके लगे हों तो केवल एक टीका लगवा लेना ही काफी होता है।
हीपेटाटिस बी वायरस के संक्रमण से लीवर की सूजन आ जाती है, पीलिया हो जाता है और लंबे समय तक संक्रमण के बाद लीवर कैंसर का भी खतरा हो सकता है। यह टीका बेहद जरूरी है जो हिपेटाइटिस बी के संक्रमण से बचाव करता है।
डीपीटी टीकों की एक श्रेणी होती है, जो इंसानो को होने वाले तीन संक्रामक बीमारियों डिफ्थीरिया, पर्टुसिस (काली खांसी) और टिटनेस से बचाव के लिए दिए जाते हैं।

 

पोलियो का टीका पोलियो नामक बीमारी जिसमें बच्चे अपंग हो जाते हैं, से सुरक्षा प्रदान करता है। ये टीका भी बच्चों को जरूर लगवाना चाहिए।
बच्चे को टी।बी से बचाने के लिए अनिवार्य रूप से बी सी जी का टीका लगवा दें। बी।सी।जी। का टीका लग जाने पर शिशु को टी।बी की बीमारी से बचाया जा सकता है।
हिब वेक्सीन का टीका बच्चों को डिफ्थीरिया, काली खांसी, टेटनस, हेपेटाइटिस-बी और एच इन्फलांजी-बी से सुरक्षित रखता है। हिब बेक्टीरिया के संक्रमण से न्यूमोनिया एवं मष्तिष्क ज्वर (मेनिनजाइटिस) जैसी गंभीर बीमारी हो सकती हैं।…Next

 

Read More :

तत्काल टिकट नियम 2019 : होली के वक्त अगर करानी पड़े तत्काल टिकट बुकिंग तो इन बातों की होनी चाहिए जानकारी

#MeToo कैंपेन के तहत इन मशहूर लोगों पर लगे यौन शोषण के आरोप, जानें क्या है ये मुहिम

सर्दी-जुकाम के बार-बार बनते हैं शिकार! ये हैं असली वजहें

 

 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग