blogid : 316 postid : 1385319

वोटर आईडी में घर बैठे कर सकेंगे बदलाव, जानें कब से मिलेगी यह सुविधा

Posted On: 15 Feb, 2018 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

948 Posts

830 Comments

मतदाता सूची में नाम जोड़ना या उसमें संशोधन करना बड़ी मशक्‍कत भरा काम माना जाता है। हालांकि, समय-समय पर प्रशासन की ओर से इस कार्य के लिए जगह-जगह कैंप लगाए जाते हैं। बावजूद इसके इसे लेकर समस्‍याएं बनी रहती हैं। कई बार अपने गृह जनपद से दूर रह रहा व्‍यक्ति समय पर मौजूद न रहने के कारण इससे जुड़ा काम नहीं करा पाता। हालांकि, अब जल्‍द ही इन समस्‍याओं का समाधान हो जाएगा और घर बैठे ही आप मतदाता सूची में नाम जोड़ पाएंगे। आइये आपको बताते हैं कि कब शुरू होगी ये सुविधा और कैसे मिलेगा इसका लाभ।


election


चुनाव आयोग ने शुरू किया वेब बेस्ड एप्लिकेशन का इस्तेमाल

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, निर्वाचन प्रक्रिया में डिजिटलाइजेशन को बढ़ावा देने के लिए चुनाव आयोग ने एक वेब बेस्ड एप्लिकेशन का इस्तेमाल शुरू किया है। इसके जरिये वोटर आईडी के लिए रजिस्ट्रेशन कराया जा सकेगा। उस पर पता सही कराने या दूसरे राज्य में शिफ्ट होने पर पता बदलने के लिए लोगों को चुनाव कार्यालय या मतदाता केंद्र पर जाने की जरूरत नहीं होगी। घर बैठे वोटर्स एरोनेट (EROnet यानी इलेक्टोरल रोल्स सर्विसेज NeT) ऐप के जरिये अपनी मतदाता पहचान संबंधी सूचनाओं में कभी भी बदलाव कर सकेंगे।


OP ravat


इस ऐप से जुड़ चुके लगभग 22 राज्य

मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने बताया कि इस ऐप से अब तक लगभग 22 राज्य जुड़ चुके हैं। रावत का कहना है कि गुजरात और हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों में जहां कुछ समय पहले चुनाव हुए हैं, वहां यह सिस्टम लागू नहीं किया जा सका था। संभावना है कि इस सिस्टम से सभी राज्य और केंद्रशासित प्रदेश जून तक जुड़ जाएंगे। उसके बाद इस सिस्टम को पूरे देश में लागू किया जाएगा। मेघालय, नागालैंड, त्रिपुरा और कर्नाटक जैसे राज्य विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद इस सिस्टम से जुड़ेंगे। यानी जून से यह काम घर बैठे एक ऐप के जरिये हो जाएगा।


mobile


ओटीपी के जरिये किया जा सकेगा संशोधन

मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि वोटर आईडी में संशोधन ओटीपी के जरिए किया जा सकेगा, जो मोबाइल पर भेजा जाएगा। यूजर के मोबाइल पर आने वाला ओटीपी यूनीक होगा। यह ऑनलाइन मॉनेटरी ट्रांजेक्शन के दौरान मिलने वाले ओटीपी की तरह ही होगा। जैसे ही मतदाता का पता बदलेगा, पुराना पता अपने आप मिट जाएगा। यह काम घर बैठे किया जा सकेगा। इस प्लेटफॉर्म से देशभर के लगभग 7500 निर्वाचन अधिकारियों के जुड़ने की उम्मीद है। वोटर की तरफ से रजिस्ट्रेशन होने या पहचान में बदलाव किए जाने पर उसके लिए निर्वाचन अधिकारी के पास एसएमएस अलर्ट जाएगा। इस सिस्टम से मतदाता सूची में पारदर्शिता आएगी और उसमें डुप्लिसिटी से बचाव हो सकेगा, क्योंकि सभी अपडेशन डिजिटल तरीके से होंगे…Next


Read More:

साथ खेलते हुए जब-जब रन आउट हुए विराट, तब-तब रोहित के बल्‍ले ने उगली आग
रणवीर सिंह ने ठुकराया 2 करोड़ का ऑफर, वजह जानकर कहेंगे वाह!
अमेरिका को 5 साल में इतनी बार मिल चुका है फ्लोरिडा फायरिंग जैसा जख्‍म

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग