blogid : 316 postid : 1356743

भारत में यहां होती है महिषासुर की पूजा, नवरात्रि की जगह ‘असुर उत्सव’

Posted On: 28 Sep, 2017 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

772 Posts

830 Comments

पूरे देश में नवरात्रि की चहल-पहल है. विविधताओं से भरे भारत में नवरात्रि के कई रंग देखे जा सकते हैं। कहीं माता की चौकी सजी हुई है, तो कहीं खाने-पीने का पंडाल, वहीं दर्शन करने के लिए मंदिरों में भीड़ देखी जा सकती है। सोशल साइट्स पर डांडिया के रंग से लोग सराबोर दिख रहे हैं। नवरात्रि के इन सभी रंगों से परे उत्तरी बंगाल के कुछ हिस्सों में दुर्गा पूजा नहीं बल्कि महिषासुर के मरने का शोक मनाया जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि ये लोग कोई और नहीं बल्कि खुद को महिषासुर के वंशज बताने वाले हैं। ये लोग बंगाल के उत्तरी हिस्से में स्थित पुरुलिया समेत कुछ और स्थानों पर असुर उत्सव मनाते हैं।


mahisha sur


शोक सभा का करते हैं आयोजन

इस समुदाय के लोग कई स्थानों पर शोक सभा का आयोजन करते हैं, इसे महिषासुर की स्मरण सभा का भी नाम दिया गया है। इस साल बाकायदा इस समुदाय के लोगों ने कमेटी के गठन करने का फैसला लिया है। इस साल असुर उत्सव को काफी बड़े स्तर पर मनाने की तैयारी है। पूरे राज्य में करीब 800-900 के बीच में असुर स्मरण सभाएं आयोजित की जाएंगी।


mahishasur


प्रशासन का नहीं है कोई डर

ये लोग बखूबी जानते हैं कि इनके इस कदम से ज्यादातर लोगों को आपत्ति हो सकती है। वहीं ये लोग प्रशासन से किसी तरह की शिकायत किए जाने पर भी खुद को तैयार किए बैठे हैं। इनका कहना है कि इनकी धार्मिक आस्था दूसरों से अलग जरूर है, लेकिन किसी भी प्रकार से हिंसक नहीं है, इन्हें अपनी धार्मिक आस्थाओं को चुनने की आजादी है।


हो चुकी है पहली बैठक

वेस्ट बंगाल स्टेट महिषासुर स्मरण सभा समिति की पहली बैठक इस महीने की दो तारीख को हो चुकी है। आगे इनकी सभा दमदम के दुर्गानगर में भी होने वाली है। बोधन से लेकर विसर्जन तक ये लोग गम के माहौल में डूबे रहते हैं …Next





Read More:

क्रिकेटर से राजनेता बने ये स्‍टार, कोई हुआ सक्‍सेस तो कोई क्‍लीन बोल्‍ड

बॉलीवुड में अब द ग्रेट खली पर बनेगी बायोपिक, ये अभिनेता निभाएगा किरदार!

दिग्विजय सिंह से लेकर ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया तक, ये हैं राजपरिवार के राजनेता

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग