blogid : 316 postid : 857036

पाकिस्तान में भूख से लड़ रही है भारत की ये आर्मी

Posted On: 27 Feb, 2015 Common Man Issues में

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

1212 Posts

830 Comments

15 फरवरी को जहां एक तरफ भारत और पाकिस्तान की क्रिकेट टीमें एक दूसरे से बीस साबित होने के लिए संघर्ष कर रहीं थी वहीं भारत से गई एक विशेष सेना पाकिस्तान में जो एक अलग मोर्चे पर लड़ाई लड़ रही थी. यह लड़ाई है भूख से और इस सेना का नाम है ‘रॉबिनहुड आर्मी.’ भारत से जुड़ी इस सेना का सरोकार न गोला-बारुद से है और न ही सीमाओं के संघर्ष से. यह सेना चाहे भारत में लड़े या पाकिस्तान में इसकी दुश्मन भूख ही होती है.


GettyImages_452137984

कराची कैंट रेलवे स्टेशन के बाहर भी 15 फरवरी को भारत-पाक के क्रिकेट मैच का रोमांच महसूस किया जा सकता था, पर छह युवाओं की टोली कुछ अलग नजारा गढ़ रही थी. ये युवा 250 से ज्यादा जरूरतमंदों को खाना खिलाने में जुटे थे. रॉबिनहुड आर्मी से जुड़े इन रॉबिनहुडों का काम बड़े-बड़े होटलों से खाना जमा करके उन्हें गरीबों के बीच बांटना है. दिलचस्प बात यह है कि ‘रॉबिनहुड आर्मी’ नाम के इस कैंपेन की जड़े भारत में है. इस मुहिम की शुरुआत भारत-पाकिस्तान के दो दोस्तों ने की जो कभी लंदन में एक साथ पढ़ा करते थे.


army-1_1424840966



Read: क्लास में इस भिखारी की लगन देख आप रह जाएँगे अचंभित


‘रॉबिनहुड आर्मी’ की शुरुआत दिल्ली में पिछले साल जून में हुई थी. दो दोस्त, नील घोष और आनंद सिन्हा ने इसे शुरू किया. नील घोष ऑनलाइन रेस्त्रां सर्च इंजन जोमैटो के वाइस प्रेसिडेंट हैं. जोमैटो भारत समेत 21 देशों में काम करती है. रॉबिनहुड आर्मी के 11 शहरों में 400 से ज्यादा वॉलन्टियर हैं, जो रोज ढाई से तीन हजार गरीबों को खाना खिलाते हैं.


RHA 1


कराची में इस कैंपेन को साराह अफरीदी ने शुरू किया है. वे कभी नील घोष के साथ लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में पढ़ा करते थे. साराह के मुताबिक, भारत-पाकिस्तान में सिर्फ सरहद का फर्क है. गरीबी और भूख के मामले में दोनों की स्थिति लगभग एक जैसी ही है. पाकिस्तान के 40 फीसदी बच्चे कुपोषित हैं जबकी होटलों और अन्य जगहों में बड़ी मात्रा में खाना बर्बाद हो जाया करता है. हजारों लोग भूखे सोते हैं. साराह और उनके पांच दोस्तों के साथ पाकिस्तान में शुरू हुआ यह कैंपेन भूखों की मदद के साथ-साथ यह भी संदेश देता है कि, ऐसे कई मानवीय मुद्दे हैं जिनपर ये दोनों पड़ोसी देश मिलकर काम कर सकते हैं. Next…


Read more:

साधारण से दिखने वाले इस व्यक्ति ने ऐसा क्या किया कि इसे मिला है पद्मश्री पुरस्कार?

महिला बनने के लिए इस सैनिक ने कराई सर्जरी, बनी पहली ट्रांसजेंडर अधिकारी

यहां मर्दों को तोहफे में अपनी बेटी देने का रिवाज है, पढ़िए हैवान बन चुके समाज की दिल दहला देने वाली हकीकत



Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग