blogid : 316 postid : 1391180

समुद्र मंथन से निकले कल्‍प वृक्ष के आगे नतमस्‍तक हुई सरकार, इसलिए बदला गया वृक्ष काटने का फैसला

Posted On: 12 Nov, 2019 Hindi News में

Rizwan Noor Khan

जन-जन से जुड़ी दास्तांसमाज की विभिन्न जरुरतों व समस्यायों को उभारता और समाधान तलाशता ब्लॉग

Social Issues Blog

1006 Posts

830 Comments

हिंदू मान्‍यताओं के तहत कल्‍प वृक्ष को बेहद महत्‍वपूर्ण और हर कामना पूरी करने वाला पेड़ माना गया है। देवताओं और असुरों द्वारा किए गए समुद्र मंथन से निकले 14 रत्‍नों में कल्‍प वृक्ष भी शामिल था। माना जाता है कि इस वृक्ष के नीच बैठकर की गई हर कामना पूरी हो जाती है। मध्‍य प्रदेश में प्रशासनिक भवनों के निर्माण में बाधा बन रहे दो कल्‍प वृक्षों को सरकार ने काटने के विचार पर अहम फैसला लिया है। वर्तमान में यह वृक्ष पृथ्‍वी पर बेहद कम मात्रा में ही बचे हैं। इसे दुर्लभ वनस्‍पति की सूची में भी शामिल किया गया है।

 

अतिक्रमण के क्षेत्र में आ रहे थे दो कल्पवृक्ष, अधिकारियों की सूझबूझ से मिला जीवनदान

 

 

धार्मिक महत्‍व पता चलने पर फैसला बदला
मध्‍य प्रदेश के सागर जिले की कलेक्‍ट्रेट में लंबे समय से दो कल्‍प वृक्ष मौजूद हैं। नए भवन निर्माण के प्रस्‍ताव में यह दोनों वृक्ष बाधा बन रहे थे। इसलिए इन्‍हें काटने का फरमान जारी किया गया था। जानकारी के मुताबिक कुछ लोगों के विरोध और धार्मिक मान्‍यताओं के चलते दोनों पेड़ों को काटने के विचार को बदलना पड़ा और जिलाधिकारी ने पेड़ों को काटने की बजाय भवन के नक्‍शे में बदलाव कर लिया है। सरकारी तंत्र के इस फैसले से लोगों में खुशी है और उन्‍होंने अधिकारियों को धन्‍यवाद दिया है।

 

 

Image result for kalpavriksha

 

 

समुद्र मंथन से निकला था कामनापूर्ति कल्‍प वृक्ष
कलेक्‍टर प्रीति मैथिल के निर्देशन में भवन निर्माण कराया गया है। इसके लिए भवन की डीपीआर में कई बड़े बदलाव करने पड़े। यह दोनों कल्‍प वृक्ष सागर जिले की कलेक्‍ट्रेट के मुख्‍य गेट पर मौजूद हैं। सागर जिले में सिर्फ यही दो कल्‍प वृक्ष मौजूद हैं। उत्‍तर प्रदेश के कुछ इलाकों में भी कई कल्‍प वृक्ष आज भी मौजूद हैं। वर्तमान में पृथ्‍वी पर कल्‍प वृक्ष की संख्‍या बेहद कम है। देवताओं की शक्तियों वाला यह वृक्ष दुर्लभ वनस्‍पतियों की श्रेणी में भी शामिल किया जा चुका है।

 

 

Image result for kalpavriksha

 

 

दुनिया के पांच देशों में ही उगता है
जानकारों के मुताबिक कल्‍प वृक्ष दुनिया में केवल भारत, ऑस्‍ट्रेलिया, अफ्रीका, इटली और फ्रांस में ही पाया जाता है। जीवन का प्रतीक यह वृक्ष समुद्र मंथन के दौरान कामधेनु गाय के साथ उत्‍पन्‍न हुआ था। ऐसा कहा जाता है कि समुद्र मंथन से निकली कामधेनु और कल्‍प वृक्ष हर कामना पूरी करते हैं। औषधीय गुणों से भरा कल्‍प वृक्ष की पत्तियां और लकड़ी और छाल के इस्‍तेमाल से असाध्‍य रोगों से छुटकारा मिल जाता है।

 

 

Image result for kalpavriksha

 

 

फ्रांसीसी वैज्ञानिक ने खोजा
वनस्‍पति विज्ञानियों के मुताबिक ओलिएसी कुल के इस वृक्ष का सबसे पहले फ्रांसीसी वैज्ञानिक माइकल अडनसन ने 1775 में खोजा था। उन्‍होंने इस पेड़ को सर्वप्रथम अफ्रीका में सेनेगल में सर्वप्रथम देखा था। इस पेड़ का वैज्ञानिक नाम ओलिया कस्पीडाटा है। भारत में इसका वानस्पतिक नाम बंबोकेसी है। कुछ देशों में इसे बाओबाब भी कहा जाता है।…Next

 

Read More: जेएनयू स्‍कॉलर अभिजीत बनर्जी को अर्थशास्‍त्र का नोबेल प्राइज मिला, अमर्त्‍य सेन को भी मिल चुका है नोबेल 

अंडरवियर से पहचाना गया दुनिया का सबसे खूंखार आतंकवादी, जमीन में छिपाए था अरबों रुपये का खजाना

सबसे बुजुर्ग नोबेल पुरस्‍कार विजेता बना अमेरिका का यह रसायन शास्‍त्री, सबसे युवा विजेता में पाकिस्‍तानी युवती का नाम

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग